स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

टोंक से 10 करोड़ का चूना लगाकर गायब हुई चिटफंड कम्पनियां, एजेन्टों के घर चक्कर लगा रहे पीडि़त उपभोक्ता

Pawan Kumar Sharma

Publish: Sep 22, 2019 10:25 AM | Updated: Sep 22, 2019 10:25 AM

Tonk

Chit fund companies absconding: हजारों उपभोक्ताओं के करोड़ों रुपए लेकर कार्यालयों के ताला लगाकर अधिकारी-कर्मचारियों के फरार हो जाने से उपभोक्ता एजेन्टों व बंद कार्यालयों के चक्कर लगा रहे है।

मालपुरा. उपखण्ड क्षेत्र के हजारों उपभोक्ताओं के करोड़ों रुपए लेकर कार्यालयों के ताला लगाकर अधिकारी-कर्मचारियों के फरार हो जाने से उपभोक्ता एजेन्टों व बंद कार्यालयों के चक्कर लगा रहे है। कस्बे संचालित संजीवनी क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी व आदर्श के्रडिट कॉपरेटिव सोसायटी की संस्थाओं में उपखण्ड क्षेत्र के हजारों उपभोक्ताओं ने अधिक ब्याज मिलने व शीघ्र ऋण मिलने के लालच में मूल पूंजी से भी हाथ धो बैठे।

read more:राजस्थान के किसान की बेटी अंजली ने सेस्टोबॉल में थाईलैंड को तीन राउंड में हराकर भारत के लिए जीता रजत पदक

संजीवनी क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी मालपुरा शाखा के पूर्व प्रबंधक विष्णु विजय ने बताया कि संजीवनी क्रेडिट सोसायटी के लगभग 8 4 एजेन्टों के माध्यम से लगभग 8 00 उपभोक्ताओं के 4 करोड़ 8 4 लाख रुपए सोसायटी विभिन्न बचत योजनाओं में जमा करवाए गए थे, वहीं आदर्श के्रडिट कॉपरेटिव सोसायटी में लगभग 125 एजेन्टों के माध्यम से लगभग 18 00 उपभोक्ताओं के 5 करोड़ रुपए से ज्यादा सोसायटी के विभिन्न योजनाओं में जमा करवाए थे, लेकिन अचानक दोनों की सोसायटियों के कार्यालय बंद होने से उपभोक्ता शाखा प्रबंधकों व कर्मचारियों को ढूंढने में लगे हुए।

read more:बड़ी खबर : SOG को फिर मिली बड़ी सफलता, थाने में फायरिंग कर पपला गुर्जर को भगाने वाला मुख्य इनामी बदमाश गिरफ्तार

एसओजी ने किया तलब- सुभाष सर्कल पर फल-फू्रट का ठेला लगाने वाले राजेन्द्र वर्मा ने अपनी बेटी की उच्च शिक्षा की तैयारी के लिए संजीवनी क्रेडिट सोसायटी में 31 हजार रुपए जमा करवाए थे, जिसके बदले सोसायटी के अधिकारियों ने फर्जी तरीके से राजेन्द्र के नाम 2 लाख रुपए का फर्जी ऋण पत्रावली तैयार कर ऋण दे रखा था, जब सोसायटी की उच्चस्तरीय जांच में राजेन्द्र वर्मा की फाइल तलब की गई तो एसओजी ने दूरभाष पर ऋण के सम्बंध में बयान देने के लिए जयपुर बुलाने पर राजेन्द्र के नाम से फर्जी ऋण देने का पता चला। वहीं मालपुरा के ही सुनिल दुबे के नाम 1 करोड़ रुपए व एक अन्य युवती के नाम दस लाख रुपए के फर्जी ऋण फाइल का पता चला। जिस पर एसओजी. ने दोनो को ही बयानों के लिए तलब किया।

read more:CCTV में कैद... बुर्का पहनकर दिनदहाड़े घर में घुसे चोरों ने महिला की आवाज निकाली, मूंछों ने खोला राज

दोगुना के चक्कर में गंवाए
उपभोक्ता धर्मेन्द्र सिंह ने बताया कि संजीवनी के्रडिट सोसायटी में बालिका योजना में पांच वर्ष में दोगुनी राशि मिलने की योजना पर बेटी के नाम से 25 हजार रुपए जमा करवाए थे, जिसमें पांच वर्ष बाद 50 हजार मिलने थे।उससे पहले ही सोसायटी कार्यालय बंद हो गया।

फल विक्रेताओं के डूबे लाखों- कस्बे के फल विक्रेता हंसराज खारोल ने संजीवनी क्रेडिट सोसायटी में बेटी की शिक्षा व भविष्य को लेकर विभिन्न योजनाओं में सोसायटी के एजेन्टों के माध्यम से 1 लाख 8 0 हजार रुपए जमा करवा रखे थे, जिनके डूब जाने से हंसराज के घर में मायूसी छायी हुई है।

बुढ़ापे का सहारा टूटा- कस्बे के गोपाल लाल त्रिपाठी ने बताया कि बुढ़ापे में सुखमय जीवन जीने के लिए ब्याज के लालच में संजीवनी के्रडिट सोसायटी की विभिन्न योजनाओं में 7 लाख रूपए जमा करवाए थे, जब पता चला तो मेरा खाना पीना भी दुश्वार हो गया। अब पैसों के लिए एजेन्ट के घर पर चक्कर लगाना पड़ रहा है।


मुख्यमंत्री से करेंगे गुहार- संजीवनी क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी मालपुरा शाखा के पूर्व प्रबंधक विष्णु विजय ने बताया कि संजीवनी के्रडिट सोसायटी, आदर्श क्रेडिट सोसायटी व नवजीवन के्रडिट सोसायटी के उपभोक्ता व एजेन्ट मिलकर अब 23 सितंबर को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के यहां पैसे पाने के लिए ज्ञापन सौपेंगे। वहीं समस्त उपभोक्ताओं की ओर से न्यायालय में भी मामला पेश किया जाएगा।


इधर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विपिन कुमार शर्मा ने बताया कि उनके पास कुछ लोग आए थे। वे सुरक्षा मुहैया कराने के लिए कह रहे थे। उनसे कह दिया गया कि मांग पर सुरक्षा उपलब्ध कराईजाएगी।
- विपिन कुमार शर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक टोंक