स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Weather: तेज बारिश के साथ गिरे ओले, सर्द हवाओं से बदला मौसम

Pawan Kumar Sharma

Publish: Nov 08, 2019 10:26 AM | Updated: Nov 08, 2019 10:26 AM

Tonk

Weather: तेज बारिश के साथ ओले गिरने से मौसम में परिवर्तन आ गया। ओले गिरने से सर्दी एकदम बढ़ गई।

 

 टोंक. जिलेभर में गुरुवार को मौसम में बदलावा आया। सुबह से बादल छा गए। शाम करीब सवा पांच बजे शहर में कुछ देर के लिए बूंदा-बांदी हुई। वहीं जिले के कईस्थानों पर भी बरसात हुई। देवली में कुछ देर चने के आकार के ओले गिरे। इधर, मौसम में अचानक आए बदलाव के बाद किसानों की चिन्ताएं बढ़ गई है।

गुरुवार सुबह से ही हल्की बूंदा-बांदी से मौसम में ठण्डक हो गई। बरसात के बाद से अभी तक खेतों में नमी बरकरार है। इससे किसान समय पर उनमें फसल नहीं बो पाए थे, कुछ जगह को छोड़ दिया जाए तो किसान अभी भी सरसों की बुवाई कर रहे हैं।

ऐसे में उनको खाद-बीज दोनों का नुकसान होने की सम्भावना है। चंूकि नवम्बर माह में गेहूं, जौ, चना आदि फसलों का समय होता है। नमी के कारण वह फसल भी समय पर नहीं बो पाएगा। हालांकि जिन किसानों ने सरसों की बुवाई करीब 20-25 दिन पहले कर ली थी उन फसलों में फायदा होगा।

तेज बारिश के साथ ओले गिरे
देवली. शहर सहित आस-पास के क्षेत्रों में गुरुवार शाम हुई तेज बारिश के साथ ओले गिरने से मौसम में परिवर्तन आ गया। ओले गिरने से सर्दी एकदम बढ़ गई। वहीं शहर की गलियों व सडक़ों पर पानी बह निकला। इससे पहले दोपहर दो बजे हल्की बंूदाबांदी हुई।

हांलाकि इसके बाद आसमान में महज बादल छाएं रहे, लेकिन शाम करीब सवा 4 बजे बंूदाबांदी के साथ शुरू हुई बारिश कुछ ही देर में मूसलाधार रूप में बदल गई। वहीं बारिश के साथ चने के आकार के ओले गिरे। तेज हवा से कई पेड़ों की टहनियां टूटकर गिर गई। इसके बाद सर्दी में इजाफा हो गया।

इसी प्रकार शहर से सटे ग्रामीण क्षेत्रों में भी बारिश के साथ ओले गिरे। खेतों में ओलों की परत जमा हो गई। किसानों का कहना है कि गुरुवार को हुई मावठ फसलों के लिए लाभदायक है। उधर, शहर के कोटा रोड पर सीवरेज नाला उफान पर आ गया। नाले का पानी ओवरफ्लो होकर सडक़ पर भर गया। इसी प्रकार चर्च रोड पर भी पानी की चादर चली। बारिश के चलते शहर में करीब एक घंटे बिजली व्यवस्था ठप रही।



रिमझिम बारिश के साथ सर्दी शुरू
पचेवर. दिन भर बादल छाए रहने के साथ ही शाम को रिमझिम बारिश शुरू हो गई। जिससे सर्दी बढऩे के साथ ही चना-सरसों की फसल में मावट के आसार बन गए। दो दिन से लगातार छाए बादलों से उमस बनी हुई थी।

[MORE_ADVERTISE1]