स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

6 गेट खोल बीसलपुर बांध से 8 4 हजार 140 क्यूसेक पानी की निकासी जारी

Pawan Kumar Sharma

Publish: Sep 16, 2019 20:10 PM | Updated: Sep 16, 2019 20:10 PM

Tonk

बीसलपुर बांध के चार गेट दो-दो मीटर वह दो गेट तीन तीन मीटर तक खोलकर बनास नदी में 8 4 हजार 140 क्यूसेक पानी की निकासी कर दी गई ।

टोंक.राजमहल. क्षेत्र के बीसलपुर बांध के कैचमेंट एरिया में हो रही बारिश के चलते बांध के जल जलभराव क्षेत्र में पानी की आवक लगातार जारी है। बांध के जलभराव में पानी की आवक बनी रहने के कारण बांध से बनास नदी में पानी की निकासी भी लगातार बनी हुई है।

कंट्रोल रुम के अनुसार बीसलपुर बांध से रविवार रात 9 बजे बांध के 10 गेट दो-दो मीटर तक खोलकर बनास नदी में प्रति सेकंड एक लाख 20 हजार 200 क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही थी, जिसे सुबह 7 बजे घटाकर 8 गेट रखते हुए बनास नदी में पानी की निकासी 48 हजार 8 0 क्यूसेक कर दी गई।

वहीं सुबह 9 बजे तक बांध के छह गेट एक-एक मीटर तक खोलकर खोलकर बनास नदी में 36 हजार 6 0 क्यूसेक पानी की निकासी कर दी गई। दोपहर एक बजे तक बांध के चार गेट दो-दो मीटर व दो गेट एक-एक मीटर तक खोलकर पानी की निकासी 6 0 हजार 700 क्यूसेक कर दी गई ।

वहीं दोपहर 3 बजे तक 6 गेट दो दो मीटर तक खोल कर बनास नदी में पानी की निकासी 72 हजार 120 क्यूसेक कर दी गई। शाम 5.30 बजे 6 गेट जिसमें चार गेट दो-दो मीटर वह दो गेट तीन तीन मीटर तक खोलकर बनास नदी में 8 4 हजार 140 क्यूसेक पानी की निकासी कर दी गई ।

ईसरदा बांध पर 6 फीट की चादर चली
बनेठा. बनास नदी पर ईसरदा कॉपर डेम पर 6 फीट की चादर चल रही है। सोमवार को बीसलपुर बांध के खोले गए गेटों से पानी का जल स्तर बढ़ गया। तथा 10 फीट भराव क्षमता वाले कॉपर डेम पर 6 फीट की चादर चलने लगी। तथा बनास में तेजी से बह रहे पानी को देखने के लिए ग्रामीणों का जमावड़ा लग गया।


दूनी व मोतीसागर बांध में चार दिन से चल रही चादर
दूनी. सरोली में निजी विद्यालय एवं महाविद्यालय सुरक्षा कारणों से पांच दिन से बंद है। दूनी सागर व धुवांकला के मोतीसागर बांध में चार दिन से चादर चल रही है। इधर, बारिश के बाद सरोली गांव के मार्गों से बह रहे पानी के चलते शिव पब्लिक उ. मा. विद्यालय एवं शिव महाविद्यालय में सुरक्षा कारणों से गत पांच दिनों से बंद है।

निदेशक शिवजीलाल चौधरी ने बताया कि कई बार प्रशासन को अवगत कराया गया, लेकिन सुनवाई नहीं हुई।
बारिश के बाद दूनी से कालानाड़ा जाने वाले मार्ग पर स्थित सुगल्या ढाणी के पास पुलिया व सडक़ क्षतिग्रस्त होने से ग्र्रामीणों व श्रद्धालुओं को परेशान होना पड़ रहा है। हालांकि ग्र्रामीणों व वार्डपंच रामलाल बराला की मांग पर पंचायत प्रशासन ने जेसीबी भिजवा अवरूद्ध नाले की सफाई करा पानी कर निकासी की गई है।