स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एसआईटी ने बजरी के अवैध कारोबार पर की कार्रवाई, 6 डंपर, एक ट्रेलर, एक रैकी कार जब्त कर 10 जनों को किया गिरफ्तार

Pawan Kumar Sharma

Publish: Oct 21, 2019 10:44 AM | Updated: Oct 21, 2019 10:44 AM

Tonk

Action on gravel mining: सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद बनास नदी से अवैध बजरी परिवहन, खनन पर एसआईटी ने पीपलू क्षेत्र के कई स्थानों पर दबिश देकर कार्रवाई की है।

पीपलू (रा.क.). सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद बनास नदी से अवैध बजरी परिवहन, खनन पर एसआईटी ने पीपलू क्षेत्र के कई स्थानों पर दबिश देकर कार्रवाई की है। टीम ने 6 डंपर, एक ट्रेलर तथा रैकी कर रही एक कार को जब्त कर 10 जनों को गिरफ्तार किया है। उन्हें पीपलू उपखण्ड अधिकारी के समक्ष पेश कर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया।

read more:मालपुरा में 8 अक्टूबर से बंद इंटरनेट सेवा हुई बहाल, सोशल मीडिया पर रहेेगी पैनी नजर

पीपलू उपखंड अधिकारी डॉ. लक्ष्मीनारायण बुनकर व पीपलू पुलिस उपाधीक्षक रामगोपाल बसवाल के नेतृत्व में एसआईटी ने शनिवार रात गहलोद, जवाली, नानेर चौराहे से बजरी भरकर गुजर रहे 6 डंपर व एक ट्रेलर तथा रैकी करने वाली कार को जप्त किया है। इनमें 5 डंपर व एक टे्रलर अवैध बजरी से भरे हुए तथा एक को खाली जप्त किया है।

read more:बजरी के अवैध परिवहन में लिप्त 16 जनों को न्यायालय ने भेजा जेल

एएसआई बालकिशन ने बताया कि चालक व उनके सहयोगी जावेद पुत्र अबीबुल्ला निवासी गहलोद, प्रभु पुत्र श्रवण लाल मेघवंशी निवासी डाल थाना नसीराबाद, गणेश पुत्र रामलाल जाट निवासी कल्याणपुरा थाना उनियारा, राजाराम पुत्र रामस्वरूप जाति मीणा निवासी निमेडा थाना पीपलू, आशीष पुत्र हेमराज मीणा निवासी सतवाडा थाना नगरफोर्ट, दीनदयाल पुत्र भोलूराम जाट निवासी माधोराजपुरा थाना फागी, शैतान पुत्र हरि रावत निवासी नखर थाना गेगल जिला अजमेर, सावरसिंह पुत्र सरदार सिंह रावत निवासी बुबानी थाना गेगल जिला अजमेर, शंकरलाल पुत्र सूरजमल खारोल निवासी माधोराजपुरा थाना फागी, परशुराम पुत्र हेमराज जाति मीणा उम्र 23 साल निवासी सतवाड़ा थाना नगरफोर्ट जिला को धारा 151 में गिरफ्तार किया।

साथ ही रैकी में प्रयोग की जा रही कार कार को धारा 207 एम वी एक्ट में जप्त किया गया। बजरी परिवहन में जप्त शुदा वाहनों की कार्यवाही के लिए खनिज विभाग व परिवहन विभाग को सूचित किया गया हैं। वहीं आरोपियों को उपखण्ड अधिकारी के समक्ष पेश कर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया।