स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

प्रशासन ने 'डंडीमार सेल्समैन पर कसा नकेल

Akhilesh Kumar

Publish: Oct 20, 2019 14:00 PM | Updated: Oct 20, 2019 11:05 AM

Tikamgarh

सार्वजनिक वितरण प्रणाली में (घटतौल) कम तौलने का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है।

टीकमगढ़. सार्वजनिक वितरण प्रणाली में (घटतौल) कम तौलने का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। जिले में लगातार की जा रही छापामार कार्रवाई व औचक निरीक्षण के बावजूद उपभोक्ताओं के अनाज पर 'बट्टाÓ लगाकर वितरित किया जा रहा है। आलम यह है कि उपभोक्ताओं को एक किलो से लेकर छह किलो तक खाद्य सामग्री कम दी जा रही है। कुछ ऐसा ही खुलास हुआ है शनिवार को ग्राम पंचायत वीर सागर में। खुलासा भी ऐसा हुआ कि परत दर परत खुलती चली गई।
दरअसल, प्रशासन को काफी समय से पृथ्वीपुर की ग्राम पंचायत स्थित महिला बहुद्देश्यीय भंडार मर्यादित वीरसागर में उपभोक्ताओं को वजन से कम खाद्य सामग्री देने की शिकायत मिल रही थी। इसी तरह केरोसिन व शक्कर का वितरण नहीं करने की लगातार मिल रही शिकायत को गंभीरता से लेतेे हुए शनिवार को एसडीएम केएस गौतम, तहसीलदार एसडी प्रजापत पुलिस बल के साथ यहां छापामार कार्रवाई की। सूचना मिलते ही सेल्समैन संतोष यादव भंडार में ताला लगाकर वहां से रफूचक्कर हो गया। उसके परिवार वाले से सम्पर्क कर उसे बुलाकर भंडार गृह का ताला खुलवाया गया और स्टाक की जांच की गई।

तौल मशीन खराब, शक्कर-केरोसिन गायब

एसडीएम केएस गौतम ने पत्रिका को बताया कि स्टाक की जांच की गई तो शक्कर और केरोसिन वहां था ही नहीं। इलेक्ट्रोनिक कांटे (तौल मशीन) के बजाय तराजू से ही अनाज तौल कर काम चलाया जा रहा था। इस दौरान वहां भीड़ लग गई। इनमें कुछ ऐसे लोग भी थे जिन्होंने इस भंडार से अनाज ले चुके थे। अधिकारियों ने पर्ची से मिलान कर उपभोक्ताओं द्वारा खरीद की गई खाद्य सामग्री की पुन: तौल कराई गई तो एक और खुलासा उजागर हो गया। जिस उपभोक्ता ने ३० किलो खाद्य सामग्री ली थी उसका पुन: वजन कराया गया तो महज २४ किलो ही निकला। यानि कि छह किलोग्राम अनाज उपभोक्ता को कम तौला गया था। इसी तरह जिस उपभोक्ता ने दस किलो अनाज की खरीद की थी उसका पुन: वजन कराया गया तो एक किलो कम निकला। इस भंडार से उपभोक्ताओं को एक किलोग्राम से लेकर छह किलोग्राम तक कम अनाज तौला जा रहा था। प्रशासनिक अधिकारियों ने मौके पर मशीन जब्त कर महिला बहुद्देश्यीय भंडार को सील कर दिया है।

नहीं लेता था उपभोक्ताओं के अंगुली के निशान
मौके पर मौजूद उपभक्ताओं ने अधिकारियों को बताया कि सेल्समैन किसी भी उपभोक्ता से मशीन पर उंगलियों के निशान नहीं लेता था। इसके बजाय वह मनमर्जी से उपभोक्ताओं को खाद्य सामग्री देकर टरका देता था। कई उपभोक्ताओं का कहना था कि सेल्समैन की मनमानी इस कदर थी कि वह कई-कई महीनों तक उपभोक्ताओं को शक्कर व केरोसिन वितरित ही नहीं करता था।
इनका कहना है
ग्रामीणों की शिकायत पर भौतिक सत्यापन किया गया है। इसमें ग्रामीणों की शिकायत पर सही पाई गई है। इस पूरे प्रकरण को जांच में लिया गया है। जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा उसके विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
केएस गौतम, एसडीएम