स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

breaking News- टीकमगढ़ में प्रायवेट मेडीकल स्टोर एवं नर्सिंग होम संचालकों को बेची जा रही सरकारी दवाएं

Anil Kumar Rawat

Publish: Sep 10, 2019 16:15 PM | Updated: Sep 10, 2019 16:15 PM

Tikamgarh

ग्रामीणों की पहल पर ग्राम हटा के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र से बेची गई दवाएं पकड़ी

प्रदीप चौरसिया


टीकमगढ़ (बल्देवगढ़). जिले में गरीबों के लिए आने वाली मुफ्ट दवाओं का धंधा किया जा रहा हैं। गरीबों की दवाओं को स्वास्थ्य केन्द्र के कर्मचारी बाजार में मेडीकल स्टोर एवं प्रायवेट नर्सिंग होम को बेच रहे हैं। ताजा मामला बल्देवगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के अंतर्गत आने वाले हटा प्राथमिक केन्द्र का सामने आया हैं। यहां पर ग्रामीणों की पहल पर बाजार में बेची गई दवाओं का बड़े पैमाने पर पकड़ा गया हैं।


मंगलवार को जिले में गरीबों की दवाओं को बाजार में बेचने के कारोबार का खुलासा हो गया। टीकमगढ़ से हटा के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर दवाएं रखीद कर आ रहे एक युवक को गांव निवासी आशीष साहू ने पकड़ लिया। युवके पास से दो बड़े बैग के साथ ही उसके स्कूटर की डिग्गी में बड़े पैमाने पर दवाएं मिली हैं। पकड़े गए युवक का नाम तुराब पुत्र मुराद खान निवासी पुराना बसस्टैंड टीकमगढ़ बताया जा रहा हैं। यह दवाएं हटा के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र से बेची गई थी। बताया जा रहा हैं कि यह दवाएं यहां पर पदस्थ फार्मासिस्ट नीतेश जैन ने बेची थी।

 

तहसीलदार पहुंचे जांच करने: ग्रामीणों द्वारा पकड़ी गई दवाओं के बाद इसकी सूचना तहसीलदार कमलेश कुशवाह एवं बीएमओ एसके छिलवार को दी गई। सूचना पर पहुंचे इन अधिकारियों ने बेची गई दवाओं की सूची बनाने के साथ ही जांच शुरू कर दी हैं। इस घटना के बाद पूरा गांव प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंच गया।

 

मिली यह दवाएं: बेची गई दवाओं में मुख्य रूप से सिरिंज, मरीजों को बॉटल लगाने के वी सेट, सेफोडेक्शन इंजेक्शन सहित कुछ मलहम के ट्यूब एवं अन्य दवाएं हैं। यह दवाएं सामान्य रूप से नर्सिंग होम में उपयोग होना बताया जा रहा हैं। फिलहाल अधिकारी पूरे मामले की जांच के बाद ही आगे की कारवाई करने की बात कह रहे हैं।


आशीष बना हीरो: इस घटना के बाद ग्रामीणों के बीच में आशीष साहू की इमेज हीरो के जैसी हो गई हैं। आशीष ने बताया कि उसे लंबे समय से इसकी जानकारी थी। वह इस मामले को उजागर करना चाहता था। मंगलवार को जब उसे सूचना मिली कि आज दवाएं बेची जा रही हैं, तो वह स्वास्थ्य केन्द्र के बाहर बैठ गया। इसके बाद जैसे ही तुराब दवाएं लेकर निकला, आशीष ने उसे पकड़ लिया।