स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कलेक्टर ने मौके पर ही ग्रामीणों की समस्याओं का किया निराकरण

Akhilesh Lodhi

Publish: Jul 20, 2019 08:00 AM | Updated: Jul 19, 2019 20:28 PM

Tikamgarh

कलस्टर मॉनिटरिंग प्रणाली के तहत ग्राम हीरानगर में ग्रामीणों की शिकायतों का समाधान किया गया।

टीकमगढ़.कलस्टर मॉनिटरिंग प्रणाली के तहत ग्राम हीरानगर में ग्रामीणों की शिकायतों का समाधान किया गया। इस दौरान कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन और अधिकारियों ने ग्रामीणों की समस्याओं का निराकरण किया। इसके पूर्व कलेक्टर सुमन एवं अधिकारियों ने टीकमगढ़ विकासखंड के अनेक ग्रामों में शालाओं, आंगनवाडिय़ों एवं शासकीय योजनाओं का निरीक्षण किया। इस दौरान कलेक्टर सुमन के निदश पर लपरवाह कर्मचारियों पर कार्रवाई की गई।
सीएफ टी मुख्यालय हीरानगर में कलेक्टर सुमन की उपस्थिति में कलस्टर मीटिंग का आयोजन किया गया। जहां कलेेक्टर ने अधिकारियों के साथ ग्रामीणों की समस्याओं का निराकरण किया। इस दौरान बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित रहे। मीटिंग में बीपीएल कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, सीमांकन, पेंशन, पानी की समस्या, सड़क की समस्या, आवास की समस्या, शौचालय के साथ अन्य प्रकार की योजनाओं से संबंधित शिकायतें प्राप्त हुईं। उन्होंने सभी ग्रामवासियों को आश्वासन देते हुए तत्काल कार्रवाई करने की बात कही। जिले में शासन की विभिन्न योजनाओं के अनुश्रवण के लिए कलस्टर मॉनिटरिंग प्रणाली के तहत आज जनपद पंचायत टीकमगढ़ के हीरानगर, अनंतपुरा एवं मवई कलस्टर मुख्यालय के 21 ग्रामों का अधिकारियों द्वारा भ्रमण किया गया।

इसके तहत हीरानगर कलस्टर की ग्राम पंचायत हीरानगर, कांटीखास, पहाडीखुर्द, नारगुडा, गोपालपुरा, आलमपुरा, बड़ागांवखुर्द, अनंतपुरा कलस्टर की ग्राम पंचायत अनंतपुरा, तखा, बड़ौराघाट, कुंवरपुरा, मऊघाट, बौरी, नयाखेरा एवं कलस्टर मुख्यालय मबई, धजरई, श्रीनगर, जसवंतनगर, रौरई, बम्हौरी नकीवन एवं मजना ग्राम पंचायतों की प्राप्त शिकायतों को जिला, ब्लॉक, सेक्टर एवं ग्राम स्तर के अमले के साथ ग्रामीणों से संवाद कर मौके पर ही उनके समाधान की कार्रवाई कराई गई। कलस्टर मॉनिटरिंग प्रणाली एवं समीक्षा बैठक के दौरान प्रत्येक ग्राम पंचायत के लिए कलस्टर के नोडल समूह सुबह 9 बजे अपनी टीम के साथ ग्राम पंचायतों में पहुंचे। ग्राम में कलस्टर नोडल अधिकारी ने सभी शासकीय संस्थाओं का भ्रमण कर एवं ग्रामीणों के बीच चौपाल लगाकर उनकी समस्याओं को सुना। ग्राम चौपाल के दौरान प्राप्त शिकायतों का ग्राम पंचायत सचिव के पास उपलब्ध पंजी में विवरण दर्ज कर उन्हें दोपहर 2 बजे तक प्राप्त किया।