स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस बार तीज पर बनाएं टेस्टी घेवर

Amanpreet Kaur

Publish: Jul 26, 2018 16:23 PM | Updated: Jul 26, 2018 16:23 PM

Sweet

तीज का त्योहार सावन में मनाया जाता है और आमतौर पर राजस्थान और नॉर्थ इंडिया में यह त्योहार बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है।

तीज का त्योहार सावन में मनाया जाता है और आमतौर पर राजस्थान और नॉर्थ इंडिया में यह त्योहार बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। इस त्योहार पर खास तौर से घेवर बनाए जाते हैं। आप चाहें तो घेवर घर में भी बना सकते हैं। यह थोड़ा मेहनत का काम जरूर है, लेकिन यह इतने स्वादिष्ट बनते हैं कि आप इस पर लगी सारी मेहनत को भूल जाएंगे। यहां पढ़ें घेवर बनाने की रेसिपी -

सामग्री -

मैदा - 250 ग्राम (2 कप)
घी - 50 ग्राम ( 1/4 कप)
दूध - 50 ग्राम (1/4 कप)
पानी - 800 ग्राम ( 4 कप)
घी या तेल - घेवर तलने के लिए

चाशनी बनाने के लिए

चीनी - 400 ग्राम( 2 कप)
पानी - 200 ग्राम (1 कप)

विधि -

मैदा छान कर किसी बर्तन में निकाल लीजिए, घी को किसी बड़े बर्तन में डाल लीजिए और बर्फ डालकर हाथ से फैटिए। फैंटते फैंटते घी की जब क्रीम जैसी बन जाए तब बर्फ के टुकड़े निकाल कर हटा दीजिए और घी को एक दम चिकनी क्रीम बनने तक फैट लीजिए। अब इसमें मैदा थोड़ी थोड़ी डालते जाइ। और फैटते जाइए, गाढ़ा होने पर दूध मिला दीजिए और थोड़ा थोड़ा पानी डाल कर खूब फैटिए, मैदा डालते जाइए। सारी मैदा डालकर अच्छी तरह मिलाइए और फैटिए और चिकना गाढ़ा बैटर बना लीजिए, अब बैटर में थोड़ा थोड़ा पानी डालिए और घोल को खूब फैटिए, घोल में कोई गुठली न रहे और घोल एकदम चिकना हो जाए। घेवर बनाने के लिए घोल तैयार है। घोल की कन्सिस्टेन्सी एकदम पतली हो कि चमचे से घोल गिराने पर पतली धार से गिरे।

कढ़ाई में करीब आधा से कम ऊचाई तक घी भर कर गरम कीजिए। घी अच्छी तरह गरम होने पर यानी मैदा की कोई भी बूंद घी में गिरे तो वह तुरन्त ऊपर उठकर तैरने लगे। मैदा का घोल किसी चमचे में भर कर बहुत ही पतली धार से इस गरम घी में डालिए। घोल डालने पर घी से उठे झाग ऊपर दिखाई देने लगते हैं।

दूसरा चमचा घोल डालने के लिये १-२ मिनिट रुकिए। घी के ऊपर झाग खतम होने दीजिए। अब फिर से दूसरा चमचा घोल भरकर बिलकुल पतली धार से घोल घी में डालिए। आप देखेंगे कि घी फिर से झाग से भर जाता है। झाग खतम करने के लिए फिर से १-२ मिनिट रुकिए।

आप जितना बड़ा घेवर बनाना चाहते हैं उसके हिसाब से उतना घोल आप भगोने में डालेंगे, घोल को भगोने के बीच में डाला जाता है, यह घोल नीचे तले में जाता और तैर कर वापस ऊपर आता है और पहली परत के ऊपर पहुंच कर परत बनाता है, यदि घेवर में बीच में जगह न रहे तो आप किसी चमचे की पतली डंडी या तान से बीच से घोल हटाकर थोड़ी जगह बना सकते है इसी जगह से घोल को डालते रहिए जब तक घेवर का आकार सही न हो जाए।

जब पर्याप्त घोल डाल चुके तब गैस की फ्लेम मीडियम कर दीजिए, अब आप घेवर को मीडियम आग पर हल्का ब्राउन होने तक सिकने दीजिए।

जब घेवर ऊपर से हल्का ब्राउन दिखने लगे तब घेवर को निकाल कर थाली में रखिए (घेवर को निकालने के लिए किसी लकड़ी या स्टील की पतली छड़, या कलछी को ऊपर से उलटा पकड़ कर उसका प्रयोग किया जा सकता है) घेवर निकाल कर जिस थाली में रख रहे हैं उसके ऊपर एक और प्लेट रख लीजिए, ताकि घेवर से निकला घी उस थाली में इकठ्ठा हो जाए, या थाली को तिरछा कर दीजिए ताकि अतिरिक्त घी थाली में नीचे की ओर निकल कर आ जाए।

सारे घेवर तल कर आप इसी तरह तैयार करके थाली में घेवर एक ऊपर एक रख लीजिए।

घेवर को मीठा करने के लिए २ तार की चीनी की चाशनी तैयार कीजिए:
किसी बर्तन में चीनी में १ कप पानी डाल कर गैस फ्लेम पर चाशनी बनने रखिए, उबाल आने के बाद ५-६ मिनिट तक पकाइए, चाशनी को चम्मच से लेकर एक बूंद किसी प्लेट में गिराइए, ठंडा होने पर उंगली और अंगूठे के बीच चिपका कर देखिए, वह उंगली और अंगूठे के बीच चिपकनी चाहिए, चाशनी में २ तार बनने चाहिए, चाशनी तैयार हो गई है।

चाशनी को इतना ठंडा कीजिए कि उसे हाथ से छू सके और एक थाली लीजिए, थाली के ऊपर एक प्याली रख लीजिए, एक घेवर लेकर प्याली के ऊपर रखिए और चाशनी को चमचे से घेवर के ऊपर सारी सतह पर डालिए, चाशनी घेवर को मीठा करती हुई नीचे निकल जाती है, आपको घेवर ज्यादा या कम जैसा मीठा करना हो उसके हिसाब से चाशनी डालते जाइए। एक एक करके सारे घेवर जो आपने बनाए हैं वे मीठे कर लीजिए, अगर घेवर से चाशनी निकल रही हो तो जिस थाली में मीठे घेवर रख रहें उस थाली को तिरछा रखिए ताकि अतिरिक्त चाशनी निकल कर थाली में नीचे की ओर इकठ्ठी हो जाए, या घेवर के नीचे कोई प्लेट रख लीजिए थोड़ी ही देर में घेवर से अतिरिक्त चाशनी निकल जाती है।

ये घेवर हवा में १ घंटे सूखने दीजिए, अब आपके मीठे घेवर तैयार हैं, आप इन्हैं अभी तो खा ही सकती हैं, और बचे हुए घेवर एअर टाइट कन्टेनर में भर कर रख लीजिए, २ सप्ताह तक कन्टेनर से घेवर निकालिए और खाइए।

अगर आप भी खाना बनाने के शौकीन हैं और कुछ ऐसी डिशेज बनाते हैं जिन पर आपको हर बार तारीफें मिलती हैं तो अब हम आपको अपनी इस कला के प्रदर्शन के लिए प्लैटफॉर्म देने जा रहे हैं। आप अपनी खास रेसिपीज पत्रिका डॉट कॉम के साथ शेयर कर सकते हैं। कंमेंट बॉक्स में अपनी रेसिपी हमें लिख भेजें। आप अपनी रेसिपी का वीडियो भी हमारे साथ शेयर कर सकते हैं। चुनिंदा रेसिपीज को पत्रिका डॉट कॉम पर फीचर भी किया जाएगा। तो देर किस बात की, लिख भेजिए हमें अपनी स्पेशल रेसिपी।