स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रिटायर्ड अपर कलक्टर ने शिक्षक से ऐसे ठगे 21 लाख, दो के खिलाफ हुई एफआईआर

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Jul 04, 2019 21:47 PM | Updated: Jul 04, 2019 21:47 PM

Surajpur

झाडफ़ूंक व नौकरी लगाने के नाम पर शिक्षक से ठग लिए 21 लाख ( FIR on Depty collector)

सूरजपुर. झाडफ़ूंक व नौकरी लगाने के नाम पर एक शिक्षक ठगी का शिकार हो गया है।

शिक्षक की रिपोर्ट पर पुलिस ने झाडफ़ूंक करने वाले सहित बहुचर्चित सेवा निवृत्त अपर कलक्टर के विरूद्ध धोखाधड़ी का अपराध दर्ज किया है। बताया जा रहा है कि ग्राम ऊंचडीह के शिक्षक शिवाराम सिंह जो ग्राम नेवरा स्थित पूर्व माध्यमिक शाला में पदस्थ हैं, इनकी पत्नी की आए दिन तबियत खराब रहती थी, जिसका वे इलाज चिकित्सकों से करा ही रहे थे कि इस बीच उनकी मुलाकात बसदेई के विजय पटेल से हो गई।

उसने यह दावा किया कि झाडफ़ंूक से वह बीमार पत्नी को ठीक कर देगा। विजय पटेल के झांसे में आए शिक्षक अपनी पत्नी को ठीक कराने के लिए विजय पटेल से झाडफ़ूंक कराते रहे। इसी दौरान विजय पटेल यह भी दावा करता रहा कि उसकी पकड़ काफी उपर तक है और वह उसके पुत्र की नौकरी अच्छे जगह पर लगवा देगा। ( FIR on Depty collector)

इस नाम पर वह शिक्षक से नकद व चेक के माध्यम से किश्तों में करीब 21 लाख 50 हजार रुपए ठग लिए। मामले में आरोपी विजय पटेल सूरजपुर में पदस्थ रहे अपर कलक्टर एमएल घृतलहरे से मोबाइल से बात कराकर यह भरोसा दिलाता रहा कि शीघ्र ही उसके पुत्र की नौकरी लग जाएगी। काफी इंतजार के बाद भी नौकरी नहीं लगी और न ही राशि वापस की तो शिक्षक ने इसकी शिकायत पुलिस अधीक्षक से की।

पुलिस अधीक्षक ने शिकायत को अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के हवाले करते हुए जांच का आदेश दिया। जांचोपरांत बसदेई पुलिस ने आज इस मामले में विजय पटेल व तत्कालिक अपर कलेक्टर के विरूद्ध धारा 420 व 34 का अपराध दर्ज किया है।

ज्ञात हो कि तत्कालीन अपर कलक्टर के विरूद्ध नौकरी लगाने के नाम पर ठगी किए जाने का और भी अपराध दर्ज है। बताया जा रहा है कि उन्होंने इस नाम पर बड़े पैमाने पर जिले के बेरोजगारों से रकम वसूले हैं। नौकरी न लगने पर राशि वापसी का उन्होंने चेक भी दिया है, जो बाउंस हो गए हैं, कई बेरोजगार तो ऐसे भी हैं जो अभी भी राशि के लिए उनके चक्कर काट रहे हैं। वे अब तक पुलिस तक नहीं पहुंचे हैं। ( FIR on Depty collector)'

एक मामले में तत्कालीन सेवानिवृत्त अपर कलक्टर को जिले की पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है और फिलहाल वे जेल में हैं।