स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बाजार से घर लौट रही महिला का अचानक रास्ते में मौत से हो गया सामना, कई ने भागकर बचाई जान

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Nov 12, 2019 21:39 PM | Updated: Nov 12, 2019 21:39 PM

Surajpur

Elephants killed women: मौत को सामने देखकर बाइक छोड़कर भाग खड़े हुए 2 युवक, लगातार हो रही मौत से क्षेत्र के लोगों में आक्रोश

केरता. सूरजपुर जिले के प्रतापपुर विकासखंड अंतर्गत धरमपुर क्षेत्र में विगत कई दिनों से उत्पात मचा रहे हाथियों के दल ने मंगलवार की शाम साप्ताहिक बाजार से घर लौट रही एक महिला को मौत (Elephants killed women) के घाट उतार दिया।

हाथियों ने उसे कुचलकर मार डाला, इस दौरान महिला के साथ मौजूद अन्य ग्रामीणों ने किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई। वहीं उस मार्ग से गुजर रहे बाइक सवार दो युवक भी वाहन छोड़कर भाग खड़े हुए। इस घटना से ग्रामीणों में वन विभाग की लापरवाह कार्यप्रणाली को लेकर काफी रोष है।


गौरतलब है कि विगत कई दिनों से 10 हाथियों का दल धरमपुर क्षेत्र में विचरण कर उत्पात मचा रहा है। हाथी घरों व फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। वन अमला लाचार नजर आ रहा है। इस बीच मंगलवार की शाम हाथियों ने एक महिला को मौत के घाट उतार दिया।

दरअसल ग्राम गौरा निवासी 40 वर्षीय रामबाई सिंह अन्य ग्रामीणों के साथ धरमपुर में लगने वाले साप्ताहिक बाजार आई थी। यहां से शाम लगभग6.30 बजे लौटते समय धरमपुर बांधपारा के पास हाथियों से सामना हो गया। अन्य ग्रामीण तो किसी तरह जान बचाकर भाग गए। लेकिन महिला नहीं भाग सकी। हाथियों ने उसे कुचलकर मार (Elephants killed to crushed women) डाला।

इस घटना से ग्रामीणों में दहशत की स्थिति निर्मित हो गई। इस दौरान उस मार्ग से गुजर रहे पलढ़ा निवासी बाइक सवार दो युवक वाहन छोड़कर भाग खड़े हुए। इधर हाथियों के बांधपारा में आने की सूचना पर बड़ी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ इक_ा हुई। ग्रामीण अपने ही साधनों से हाथियों को खदेडऩे में लग गए।


एक घंटे देर से पहुंचा वन अमला
धरमपुर में ही वन विभाग का कार्यालय भी है। इसके बावजूद हाथियों के हमले में मौत की घटना को लेकर वन विभाग की लापरवाही देखने को मिली। विभाग के कर्मचारी एक घंटे देर से मौके पर पहुंचे। लापरवाह कार्यप्रणाली को लेकर ग्रामीणों में काफी रोष देखा गया। वन अमले ने एहतियातन धरमपुर रोड पर आवागमन बंद कर दिया है, साथ ही ग्रामीणों को हाथियों के नजदीक नहीं जाने की समझाइश दी जा रही है।


धरमपुर में अब तक कई लोगों की जा चुकी है जान
धरमपुर क्षेत्र हाथियों से उत्पात के मामले में काफी संवेदनशील माना जाता है। इस क्षेत्र में हाथियों के हमले में कई लोगों की जान जा चुकी है। धरमपुर क्षेत्र के अधिकांश गांव हाथी प्रभावित हैं, जो वर्षों से दहशत के बीच जी रहे हैं। हर साल हाथी यहां घरों व फसलों को नुकसान पहुंचाने के साथ ही लोगों की जान लेते हैं।

ग्रामीणों का कहना है कि वन विभाग की तरफ से उन्हें हाथियों से बचाव के लिए उचित संसाधन नहीं दिए जाते हैं। वन विभाग के इस रवैये को लेकर ग्रामीण अब आंदोलन का मन बना रहे हैं।

सूरजपुर जिले में हाथियों की खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- elephants ts News

[MORE_ADVERTISE1]