स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

4 महीने से पुलिस को चकमा दे रहा शातिर पटवारी गिरफ्तार, पुलिस के पहुंचने से पहले बदल लेता था ठिकाना

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Nov 15, 2019 20:27 PM | Updated: Nov 15, 2019 20:27 PM

Surajpur

Chhattisgarh crime: पटवारी के साथी को पुलिस ने पूर्व में ही गिरफ्तार कर न्यायालय में किया था पेश, अपने आईडी से इस तरह का खेल रहा था खेल

बिश्रामपुर. एक ग्रामीण की जमीन को किसी और के नाम कर पटवारी द्वारा फर्जीवाड़ा (Land falsification) किया गया था। बकायदा इसकी ऋण-पुस्तिका भी जारी कर दी गई थी। इसकी शिकायत ग्रामीण ने पुलिस चौकी में दर्ज कराई थी। (Chhattisgarh Crime)

मामले में पुलिस ने जिसके नाम से जमीन की गई, उसे तो गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था लेकिन पटवारी पिछले 4 महीने से पुलिस को चकमा दे रहा था। इसी बीच शुक्रवार को मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने आरोपी पटवारी को गिरफ्तार (Patwari arrested) कर लिया।


सूरजपुर जिले के लटोरी चौकी अंतर्गत ग्राम रामेश्वरपुर निवासी गौतम प्रसाद राजवाड़े पिता हरिसाय राजवाड़े द्वारा 4 माह पूर्व लटोरी चौकी में अपनी जमीन का फर्जीवाड़ा किए जाने की शिकायत दर्ज कराई थी।

पुलिस ने जांच में पाया कि हल्का नंबर-42 के पटवारी हेमप्रसाद चौधरी द्वारा फर्जी तरीके से ग्राम रामेश्वरपुर स्थित भूमि खसरा नंबर 126, रकबा 3.59 हेक्टेयर भूमि को ग्राम खडग़वां निवासी आरोपी महेंद्र यादव पिता शैलेंद्र यादव के नाम पर अपने पटवारी आईडी पासवर्ड से दुरुस्त किया गया है।

महेंद्र यादव के नाम पर उक्त जमीन की ऋण-पुस्तिका जारी की गई है। इस आधार पर महेंद्र यादव द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक कल्याणपुर, स्टेट बैंक विश्रामपुर व को-ऑपरेटिव बैंक लटोरी से लोन भी ले लिया था। इसपर पुलिस ने पटवारी एवं उसके साथी के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471, 120बी के तहत अपराध दर्ज कर आरोपियों की खोजबीन में जुट गई।

पुलिस ने महेंद्र यादव को तो गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश कर दिया था लेकिन पटवारी हेम प्रसाद चौधरी पुलिस को चकमा देकर लगातार 4 महीने से ठिकाना बदल कर फरार चल रहा था। शुक्रवार को पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर आरोपी पटवारी को अंबिकापुर से गिरफ्तार कर न्यायालय पेश किया।


पटवारी पर पूर्व में भी हुआ था अपराध दर्ज
पटवारी हेम प्रसाद के विरुद्ध इससे पूर्व भी एक और शासकीय छोटे झाड़ के जंगल की भूमि में फर्जीवाड़े को लेकर अपराध दर्ज किया गया था।

इस मामले में भी आरोपी पटवारी के द्वारा ग्राम सुंदरगंज स्थित शासकीय छोटे झाड़ के जंगल के भूमि को अपने साथी के साथ मिलकर आपराधिक षडय़ंत्र कर महेंद्र यादव के नाम पर फर्जी ऋण पुस्तिका बनाया गया था। आरोपी पटवारी के द्वारा अन्य कई लोगों से भी पैसा लेकर काम ना करने की चर्चा आम जनों में व्याप्त है।


कार्रवाई में ये रहे शामिल
कार्रवाई में थाना प्रभारी जयनगर दीपक पासवान, चौकी प्रभारी लटोरी सुभाष कुजूर, प्रधान आरक्षक संजय सिंह यादव, विशाल मिश्रा, आरक्षक विकास मिश्रा, देवनंदन राजवाड़े, एमनेश्वर सिंह व रोशन सिंह शामिल रहे।

सूरजपुर जिले की क्राइम की खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- surajpur Crime

[MORE_ADVERTISE1]