स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मध्य प्रदेश से ये घातक सामान लाकर छत्तीसगढ़ के युवाओं को बना रहे थे निशाना, 25 लाख के साथ 5 गिरफ्तार

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Nov 13, 2019 19:58 PM | Updated: Nov 13, 2019 19:58 PM

Surajpur

Chhattisgarh Crime: नशे के अवैध कारोबारियों के खिलाफ पुलिस की बड़ी कार्रवाई, सिंगरौली एसपी के सहयोग से वहां के दुकान में छापा मारकर संचालक को दबोचा

सूरजपुर. नशीली दवाओं के कारोबार पर शिकंजा कसने की कड़ी में जिले की पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। 25 लाख रुपए की नशीली दवाइयों (Illegal medicine) के साथ 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस अधीक्षक राजेश कुकरेजा ने बताया कि मुखबिर से मिली सूचना पर बसदेई पुलिस ने कोरिया जिले के पटना गंगा प्रसाद साहू, पारस गोंड़ व राजेन्द्र गोंड़ को बाइक क्रमांक सीजी 16 सीबी-6310 के साथ ग्राम कुसमुसी के पास से गिरफ्तार किया है।

आरोपियों के पास से एक जूट के बोरे में ओनरेक्स कफ सिरप 95 नग, एविल इंजेक्शन 136 नग, सिंप्लेक्स सी प्लस कैप्सूल 1728 नग, पाइवोन स्पास प्लस कैप्सूल 1536 नग, अल्प्राजोलम टेबलेट 600 नग, स्पास ट्रानकन प्लस कैप्सूल 144 नग एवं रेक्सोजैसिक इंजेक्शन 40 नग बरामद किया गया। (Drug smuggling)


मध्यप्रदेश से ला रहे थे दवाओं की खेप
आरोपियों ने पूछताछ के दौरान बताया कि नशीली दवाइयों को माड़ा मध्यप्रदेश के शिवम मेडिकल से लेकर आ रहे हैं। दवाइयों को आरोपी कोरिया के पटना तथा आसपास के क्षेत्रों में नशेड़ी प्रवृत्ति के लोगों को ऊंची कीमत पर बेचते थे।


दुकान संचालक पर सख्ती, टीम ने मारा छापा
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए आईजी केसी अग्रवाल की अनुमति से एसडीओपी ओडग़ी मंजूलता बाज के नेतृत्व में एसआई अजहरूद्दीन, चौकी प्रभारी बसदेई सुनील सिंह सहित अन्य पुलिस कर्मचारियों की टीम गठित कर तत्काल माड़ा मध्यप्रदेश रवाना कर दिया गया।

जिले की पुलिस टीम को सहयोग प्रदान करने के लिए सिंगरौली मध्यप्रदेश के पुलिस अधीक्षक अभिजीत सिंह रंजन से फोन पर चर्चा की। सिंगरौली पुलिस अधीक्षक ने पूरी मदद करते हुए थाना प्रभारी माड़ा अभिमन्यु द्विवेदी को निर्देशित किया और उन्होंने सूरजपुर पुलिस टीम के साथ माड़ा स्थित शिवम मेडिकल स्टोर पहुंचकर छापेमारी की।

पुलिस ने मेडिकल संचालक मिथलेश शाह एवं उसके कर्मचारी बोलबम शाह से अल्प्रोकेन टेबलेट 30 हजार 2 सौ नग, सिंटलेक्स सी प्लस कैप्सूल 11 हजार 2 सौ नग, ट्रीडोल 50 कैप्सूल 3 हजार 3 सौ नग, लेबोरेट इंजेक्शन 40 नग स्पास ट्रानकन प्लस कैप्सूल 4 हजार 7 सौ 52 नग, एविल इंजेक्शन 750 नग बरामद किया गया।

दोनों स्थानो से जब्त की गई नशीली दवाइयों की बाजात में कीमत करीब 25 लाख रूपये है। मामले में एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाही की गई है।


बड़े शहरों से जुड़ा है नेटवर्क
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि भारी मात्रा में जब्त की गई नशीली दवाइयों के संबंध में आरोपी मिथलेश शाह ने बताया कि नशीली दवाइयों को कम कीमत पर सागर, कटनी व रीवां से लाकर अपने मेडिकल स्टोर से बेचता था। नशीली दवाई को छत्तीसगढ़ के छोटे व्यापारियों को ही ऊंचे दर पर बिक्री करता था और अब तक मेडिकल स्टोर की आड़ में नशे का कारोबार कर पुलिस से बचता रहा।

पुलिस ने इन नशीली दवा कंपनी के विरूद्व उचित कार्यवाही व नियंत्रण हेतु राज्य एवं केन्द्र सरकार को पत्र भेजाा है। नशीली दवाओं के वितरण में पर्याप्त नियंत्रण रखी जाए। प्रतिबंधित दवा शहरी दुकानों में भेजे जाने के बाद वह छोटे-छोटे कस्बे के दुकानों में चली जाती है।


पहली बार अंतरराज्यीय कार्रवाई
पुलिस अधीक्षक राजेश कुकरेजा ने जिले की कमान संभालते ही स्पष्ट कर दिया था कि वे नशीली दवाओं के कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए हर संभव कोशिश करेंगे। उन्होंने जिले के थाना प्रभारियों को अपनी मंशा से अवगत करा दिया था। इसी तारतम्य में जिले भर की पुलिस नशीली दवाओं के कारोबार पर अंकुश लगाने की दिशा में सक्रिय है।

इसी कड़ी में यह पहला मौका है जब इस नेटवर्क को ध्वस्त करने के लिए दूसरे राज्य में भी छापेमारी की गई है। इससे जिले के साथ साथ मध्यप्रदेश के माड़ा में भी इन कारोबारियों में हड़कंप मचा हुआ है।


अब तक 14 मामलों में 31 पर हुई है कार्रवाई
इसके पूर्व भी बसदेई पुलिस ने वर्ष 2019 में 7 अलग-अलग प्रकरणों में 13 लोगों से करीब 81 हजार रूपये कीमत के अवैध मादक पदार्थ गांजा एवं करीब 9 लाख रूपये कीमत, विश्रामपुर पुलिस ने 6 अलग-अलग मामलों में 16 लोगों से करीब 5 लाख 40 हजार रूपये के नशीली दवाइयों एवं खडग़वां पुलिस के द्वारा 12 नवम्बर को 2 लोगों से 5 लाख रूपये कीमत के नशीली कफ सिरप बरामद कर आरोपियों को जेल भेजा है।


ईनाम देने की घोषणा
बसदेई पुलिस की इस सफलता पर पुलिस अधीक्षक ने पूरी टीम को नगद ईनाम देने की घोषणा की है। पुलिस महानिदेशक छत्तीसगढ़ द्वारा चलाए जा रहे इन्द्रधनुष योजना में पूरी पुलिस टीम को पुरस्कृत करने हेतु अनुशंसा की गई है। कार्यवाही में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर,

सीएसपी जेपी भारतेन्दु सहित प्रधान आरक्षक मनोज पोर्ते, हंसराम कनेडिया, आरक्षक अमरेन्द्र दुबे, जितेन्द्र पटेल, देवदत्त दुबे, महेन्द्र प्रताप सिंह, प्रदीप साहू, महेन्द्र यादव, थामस मिंज, जयप्रकाश सिंह, रामनारायण सोनवानी, राकेश बंजारे, मोहन रजक, प्रदीप जायसवाल, महिला नगर सैनिक रीमा गुप्ता का योगदान रहा।

सूरजपुर जिले की क्राइम की खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- surajpur Crime

[MORE_ADVERTISE1]