स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अवैध संबंध के शक में पत्नी की निर्मम हत्या, पहले मिटाई हवस फिर बोरे में भरकर जला दी लाश, चाचा कर रहा था पहरेदारी

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Aug 19, 2019 20:38 PM | Updated: Aug 19, 2019 20:38 PM

Surajpur

Blind murder case: जंगल में महिला की मिली अधजली लाश की गुत्थी पुलिस ने सुलझाई, आरोपी पति व उसके चाचा को गिरफ्तार कर भेजा जेल

जरही. भटगांव पुलिस ने सोनगरा स्थित चिकनी के जंगल में हुई महिला के अंधे कत्ल (Blind murder case) की गुत्थी सुलझा ली है। मामले में पुलिस ने मृतका के पति व उसके चाचा को गिरफ्तार किया है। दरअसल आरोपी पति को शक था कि उसकी पत्नी के कई लोगों से अवैध संबंध है।

इसी शक में उसने अपने चाचा के साथ मिलकर योजनाबद्ध तरीके से पत्नी को जंगल में ले जाकर पहले शारीरिक संबंध बनाया और चापड़ से गर्दन पर वार कर दिया। जब वह चिल्लाने लगी तो गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद उसकी लाश को बोरे में भरकर जला दिया था। पुलिस को 12 अगस्त को अधजला शव मिला था।

 

यह भी पढ़ें : बाइक से गिरते ही पहले नाक पर मारा मुक्का फिर पत्थर से चेहरे पर कई वार कर उतार दिया मौत के घाट


सूरजपुर जिले के भटगांव थानांतर्गत सोनगरा के चिकनी जंगल में 12 अगस्त को एक महिला (Blind murder) का जला शव मिलने से सनसनी फैल गई थी। हत्या के इस मामले में मृतका की शिनाख्त करना बड़ी चुनौती थी, इस पर पुलिस ने शव के फोटोग्राफ व पंपलेट हर तरफ फैला दिए, तब जाकर मृतका की शिनाख्त करकोली निवासी संतोषी पनिका के रूप में हुई।

 

Wife murder

इसके बाद की विवेचना में पुलिस को पता चला कि संतोषी की शादी 10-12 वर्ष पूर्व धरमपुर निवासी जुगेश्वर टुहुल के साथ हुई थी। फिर पुलिस ने मृतका के मोबाइल नंबर की कॉल डिटेल निकाली तो इससे अहम सुराग मिले और इसी आधार पर पुलिस ने जुगेश्वर को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने चाचा अमरलाल के साथ मिलकर मृतका की हत्या करने का जुर्म कबूल लिया। इस पर पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने में एएसपी हरीश राठौर के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी किशोर केंवट, एसआई आराधना बनोदे, एएसआई सुमंत पांडेय, संजय चौहान, राधेश्याम साहू, रजनीश पटेल, विनोद प्रताप सिंह, नौशाद अली, प्रकाश साहू, अवधेश कुशवाहा, विनोद परीडा, राजीव लोचन व अन्य पुलिसकर्मियों की भूमिका रही।

 

यह भी पढ़ें : 3 दिन से घर से गायब थी युवती, घरवालों के उस समय उड़ गए होश जब पड़ोसी के यहां मिली उसकी लाश


अंबिकापुर के होटल में काम करती थी मृतका
पुलिस ने बताया कि आरोपी जुगेश्वर को शक था कि उसकी पत्नी संतोषी का अन्य लोगों से अवैध संबंध है। इस बात से वह क्षुब्ध रहता था। मृतका 5-6 माह से अंबिकापुर के वेलकम होटल में काम करती थी। अवैध संबंध के शक में ही जुगेश्वर ने संतोषी की हत्या करने की योजना बनाई और इसमें अपने चाचा अमरलाल को शामिल किया।

 

Blind murder case

मृतका को अंबिकापुर से ले गया था आरोपी
योजनाबद्ध तरीके से आरोपी जुगेश्वर 10 अगस्त को बाइक से अपने चाचा के साथ अंबिकापुर पहुंचा और संतोषी को मिलने के बहाने फोन कर गांधी चौक पर बुलाया। इस दौरान उसने संतोषी को यह भी कहा कि किसी को बिन बताए आना। इस पर संतोषी उसके झांसे में आ गई और गांधी चौक पहुंच गई। फिर वह संतोषी को बाइक में बैठाकर ले गया।

 

यह भी पढ़ें : महिला के गैरमर्दों से भी थे संबंध, साथ रह रहा प्रेमी भी कर चुका था मना, नहीं मानी तो कर दिया खूनी अंत


पहले शारीरिक संबंध बनाया, फिर ले ली जान
आरोपी संतोषी को बाइक से धरमपुर की ओर न ले जाकर सुनसान जंगल वाले रास्ते पर ले गया। यहां पहुंचकर चाचा को बाइक के पास ठहरने को बोला व संतोषी को साथ लेकर जंगल ले गया। आरोपी ने साथ में झोला भी रखा था, जिसमें चापड़ (धारदार हथियार), मिट्टी तेल व जूट की बोरी व माचिस थी।

जंगल में आरोपी ने संतोषी के साथ पहले शारीरिक संबंध बनाया, फिर इसी दौरान मौका पाकर पहले उसके गर्दन पर चापड़ से (Blind murder) वार कर दिया।

इससे संतोषी चीखी तो आरोपी ने गला दबाकर उसकी हत्या Blind murder) कर दी। इसके बाद साक्ष्य मिटाने के उद्देश्य से शव पर मिट्टी तेल छिड़क कर ऊपर से बोरी डालकर आग लगा दी। आरोपी ने चापड़ को जंगल में ही फेंक दिया था, जिसे पुलिस ने बरामद कर लिया।

 

सूरजपुर जिले की क्राइम से संबंधित खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- Crime in Surajpur