स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Blind Murder Case: भाचा और भतीजा निकले हत्यारे, मामूली सी बात पर दिया था इस घटना को अंजाम

Bhupesh Tripathi

Publish: Jul 14, 2019 17:23 PM | Updated: Jul 14, 2019 17:29 PM

Sukma

Blind murder case: अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझी, जमीन विवाद के कारण दिया गया था घटना को अंजाम

सुकमा। छत्तीसगढ़ के घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में हुए अंधे क़त्ल ( Blind murder case ) में नया मोड़ आया है। दरअसल पोलमपल्ली थाना क्षेत्र के पांतापारा में हुई हत्या की गुत्थी पुलिस ने दूसरे दिन ही सुलझा लिया और एक आरोपी को गिरफ्तार भी किया। कहानी में नया मोड़ तब आया जब पता चला कि भतीजा व भांजा ही निकले आरोपी। जिसने जमीन के विवाद में अपने ही मामा/चाचा की हत्या की साजिश रच डाली।

10 माह किया शारीरिक शोषण, जब युवती हुई प्रेग्नेंट तो पति बनकर करवा दिया गर्भपात

murder case

मामला बुधवार का है जब खेत मे एक लाश पड़ी देखी गई जैसा कि पूरा क्षेत्र माओवादी (naxal) प्रभावित क्षेत्र है तो लोग इसे माओवादी घटना के रूप में देख रहे थे। लेकिन जैसे जैसे जांच आगे बढ़ी तो पाया गया कि मामला कुछ और है। एसपी सुकमा (sukma) के निर्देश पर एक टीम गठित कर दोरनापाल एसडीओपी अखिलेश कौशिक के नेतृत्व में खोजबीन शुरू हुआ और जल्द ही मामले की गुत्थी (Blind Murder Case) सुलझा लिया गया।

Video: शाम होते ही इलाके में शुरू हो जाती थी लड़कियों को बुक करने का सिलसिला, जब पहुंची पुलिस तो..

जिसमें पाया गया कि मृतक कलमू भीमा के भतीजा कलमू मुड़ा और भांजा किच्चे लच्छा ने जमीन विवाद के चलते कलमू भीमा की हत्या कर दी। हालांकि कलमू मुड़ा फरार बताया जा रहा है। जबकि भांजा किच्चे लच्छा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। जांच टीम दोरनापाल एसडीओपी अखिलेश कौशिक, पोलमपल्ली थाना प्रभारी रितेश यादव, विद्याधर भारद्वाज, एस एल ध्रुव, ललित चंद्रा शामिल थे।

blind murder case से जुड़ी खबर के लिए यहाँ क्लिक करें।