स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

घर में पानी के टैंक में डूबने से दो मासूम भाईयों की मौत, परिजनों में मचा कोहराम

kamlesh sharma

Publish: Aug 14, 2019 20:22 PM | Updated: Aug 14, 2019 20:22 PM

Sri Ganganagar

सदर थाना इलाके में छह ए छोटी गांव में बुधवार शाम को घर में पानी के टैंक में गिरने से दो मासूम भाईयों की मौत हो गई। परिजन व ग्रामीण एक घंटे तक गांव व आसपास इलाके में बच्चों की तलाश करते रहे।

श्रीगंगानगर। सदर थाना इलाके में छह ए छोटी गांव में बुधवार शाम को घर में पानी के टैंक में गिरने से दो मासूम भाईयों की मौत हो गई। परिजन व ग्रामीण एक घंटे तक गांव व आसपास इलाके में बच्चों की तलाश करते रहे। घटना को लेकर परिजनों में कोहराम मच गया।

ग्रामीणों व परिजनों ने बताया कि गांव छह ए छोटी राजदीप सिंह के पुत्र हर्षदीप (4) व अर्शदीप (3) बुधवार शाम को घर में अकेले थे। बच्चों के दादा व मां अपने-अपने कार्य से गए हुए थे। शाम को बच्चे घर में खेलते हुए अचानक गायब हो गए। उनकी मां व अन्य परिजन इधर-उधर ढूंढने निकले। इस दौरान ग्रामीण भी आ गए। करीब एक घंटे तक परिजन व ग्रामीण दोनों भाईयों को इधर-उधर ढूंढते रहे।

आखिर में किसी ग्रामीण ने घर में बने पानी की टैंक में देखने के लिए कहा। देखा तो पानी के टैंक पर लगा पत्थर सरका हुआ था। अंदर झांककर देखा तो दोनों बच्चे पानी में डूबे हुए थे। टैंक में बच्चों को देखकर वहां मौजूद परिजनों में चीख-पुकार मच गई।

ग्रामीणों ने तत्काल बच्चों को टैंक से बाहर निकाला और लेकर राजकीय चिकित्सालय पहुंच गए। जहां चिकित्सकों ने बच्चों को बचाने के लिए काफी प्रयास किए लेकिन उसमें सांस नहीं लौअी। चिकित्सकों ने जांच के बाद दोनों बच्चों को मृत घोषित कर दिया। इस पर वहां मौजूद परिजनों में कोहराम मच गया।

छिन गए बेवा मां के सहारे
ग्रामीणों ने बताया कि मृतक बच्चों के पिता राजदीप की करीब एक-दो साल पहले बीमारी से मृत्यु हो गई थी। उसकी पत्नी मेहनत मजदूरी करके अपने दोनों बच्चों को पाल रही थी।

यही दोनों बच्चे बेवा मां के सहारे थे। जो भी उससे छिन गए। दोनों बेटों की मौत की खबर सुनकर गांव में उनकी मां का रो-रोकर बुरा हाल हो गया।

बच्चों के दादा को ग्रामीण बाद में अस्पताल लेकर पहुंचे और जब दोनों बच्चों की मौत की खबर दी तो दादा की आंखें पथरा सी गई और बूढी आंखों में आंसू बहने लगे। वहीं अन्य परिजनों का भी कोहराम मच गया।