स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पूर्व सरपंच, तत्कालीन विकास अधिकारी एवं ग्राम सचिव पर एफआईआर

Jai Narayan Purohit

Publish: Jan 17, 2020 20:11 PM | Updated: Jan 17, 2020 20:11 PM

Sri Ganganagar

Police action : ग्राम पंचायत लखाहाकम में करीब सात साल पूर्व काटे गए आवासीय भूखंडों को जिला परिषद स्तर से हुई जांच में अवैध पाए जाने के बाद विकास अधिकारी ने शुक्रवार को तत्कालीन विकास अधिकारी सहित तीन जनों पर प्राथमिकी दर्ज करवाई है।

रायसिंहनगर. ग्राम पंचायत लखाहाकम में करीब सात साल पूर्व काटे गए आवासीय भूखंडों को जिला परिषद स्तर से हुई जांच में अवैध पाए जाने के बाद विकास अधिकारी ने शुक्रवार को तत्कालीन विकास अधिकारी सहित तीन जनों पर प्राथमिकी दर्ज करवाई है।

पुलिस के अनुसार ग्राम पंचायत लखाहाकम में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सौरव स्वामी के निर्देश पर जांच करवाई गई थी। जांच के दौरान 2013 में काटे गए आवासीय भूखंडों के 75 पट्टे अवैध पाए गए थे। आरोप है कि ग्राम पंचायत की तत्कालीन सरपंच सुमन ठोलिया व तत्कालीन ग्रामसचिव रामसिंह ने जून 2013 में एक ही दिन में एक साथ 75 पट्टे काटे। आरोप है कि ग्राम पंचायत ने अपने चहेतों के नाम से नाम मात्र का शुल्क लेकर पट्टे काट दिए तथा जांच के दौरान मौके पर पट्टा मिसल आदि नहीं मिले। पट्टे जारी किए जाने से पूर्व ग्राम पंचायत की बैठक की कार्यवाही में भी पट्टों को नहीं लिया गया।

जिला परिषद की जांच कमेटी ने इन पट्टों को अवैध मानते हुए पट्टे निरस्त किए जाने की अनुशंसा की थी। इस पर मुख्य कार्यकारी अधिकारी सौरभ स्वामी ने पट्टों को निरस्त करवाने की कार्रवाई शुरू करने व दोषियों के खिलाफ पुलिस प्राथमिकी दर्ज करवाने के निर्देश विकास अधिकारी को दिए थे। जांच टीम ने तत्कालीन सरपंच सुमन ठोलिया व रामसिंह को दोषी मानने के साथ ही तत्कालीन विकास अधिकारी एवं सहायक अभियंता परमपालङ्क्षसह को पर्यवेक्षण में कमी का दोषी माना था। विकास अधिकारी अभिमन्यु चौधरी ने शुक्रवार को जिला परिषद की रिपोर्ट के आधार पर मामला दर्ज करवाया। पुलिस ने तत्कालीन सरपंच सुमन ठोलिया, तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी रामसिंह व तत्कालीन विकास अधिकारी एवं सहायक अभियंता परमपाल सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू की है।

[MORE_ADVERTISE1]