स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

युवा इंस्टाग्राम उपयोगकर्ता ज्यादा फॉलोवर्स पाने के लिए गोपनीयता से कर रहे समझौता

Mohmad Imran

Publish: Aug 04, 2019 16:03 PM | Updated: Aug 04, 2019 16:03 PM

Special

युवा इंस्टाग्राम उपयोगकर्ता ज्यादा फॉलोवर्स पाने के लिए गोपनीयता से कर रहे समझौता
-लाखों युवा अपने निजी इंस्टाग्राम खातों को 'बिजनेस प्रोफाइल' में बदलकर अपने फॉलोवर्स की संख्या बढ़ाने के लिए अपनी निजी जानकारी को खतरे में डाल रहे हैं

विवादों से घिरी रहने वाली फेसबुक की मालिकाना हक वाली सोशल नेटवर्किंग साइट इंस्टाग्राम भी इससे अछूती नहीं है। दरअसल, इंस्टाग्राम पर 'बिजनेस' प्रोफाइल पाने के लिए उपयोगकर्ता अपना मोबाइल नंबर, ईमेल और अन्य जरूरी जानकारियां साझा कर रहे हैं। डेटा वैज्ञानिक डेविड स्टियर का कहना है कि इंस्टाग्राम के डिज़ाइन और प्रॉम्प्टिंग सुविधा से यह काम और भी आसान हो गया है। स्टियर ने ही कंपनी को इस विषय में जानकारी दी थी। उन्होंने दुनिया भर में 2 लाख से ज्यादा इंस्टाग्राम खातों पर अलग-अलग सैंपलिंग तरीकों के साथ व्यापक विश्लेषण भी किया।

100 करोड़ लोग चुरा सकते डेटा
स्टियर का कहना है कि ज्यादातर माता-पिता इस बारे में जानते ही नहीं हैं। अभिभावकों को मालूम ही नहीं कि अगर उनका 13 साल का बच्चा अपने इंस्टाग्राम अकाउंट को बिजनेस प्रोफाइल में बदल देता है तो उसकी तमाम निजी जानकारियों को 100 करोड़ लोग आसानी से चुरा सकते हैं। गौरतलब है कि इंस्टाग्राम सहित कई सोशल मीडिया साइट्स ने उपयोगकर्ताओं की न्यूनतम आयु 13 वर्ष निर्धारित की हुई है। इस न्यूनतम आयु सीमा के कारण डिजिटल दुनिया के खतरों से अंजान किशोर नियमित रूप से इन सोशल साइट्स पर सक्रिय रहते हैं।

ज्यादा फीचर बन गए मुसीबत
इंस्टाग्राम की सेटिंग में 'गेट मोर टूल्स' नाम से एक विकल्प है। यदि उपयोगकर्ता इस लिंक पर क्लिक करते हैं तो उनसे पूछा जाएगा कि वे 'क्रिएटर' या 'बिजनेस' में से कौन-सा विकल्प चुनना पसंद करेंगे। कोई एक विकल्प चुनने के बाद उनसे पूछा जाएगा कि वे किस तरह की जानकारी साझा करना चाहेंगे। इसके बाद उन्हें एक चार्ट की सुविधा दी जाती है जहां वे यह देख सकते हें कि वे ऐप पर कैसा परफॉर्म कर रहे हैं। फीचर हमें इस बात की जानकारी देता है कि हमारी साझा की गई पोस्ट को कौन, किस दिन और कितने बजे देख रहा था। साथ ही सबसे लोकप्रिय कौन सी पोस्ट थी और इसे कितनी बार और कितने लड़के लड़कियों ने देखा।

यूज़र दे रहे गलत जानकारियां
यूजर के प्रोफाइल अकाउंट में प्रदर्शित उनकी प्रोफाइल के जरिए स्टियर ने लोगों की उम्र का विश्लेषण किया। उन्होंने पाया कि ज्यादातर किशोरों ने अपनी प्रोफाइल में खुद को 'नॉन-प्रॉफिट' और 'एथलीट' दर्शाया है। लेकिन उनके प्रोफाइल की समीक्षा करने पर स्टियर ने पाया कि इनमें से ज्यादातर 'बिजनेस' प्रोफाइल वाले नहीं थे। यही नहीं इनके बमुश्लि 100 से 200 फॉलोवर्स ही थे। इस जानकारी के सामने आने के बाद इंस्टाग्राम ने अपने प्लेटफॉर्म पर यूजर की संपर्क जानकारी को कम दिखाना शुरू कर दिया। हालांकि कंपनी ने यह भी कहा कि यूजर्स ने यह अपनी मर्जी से किया था, कंपनी की ओर से उन्हें ऐसा करने के लिए बाध्य नहीं किया गया था। स्टियर ने इंस्टाग्राम की नीयत पर सवाल उठाते हुए कहा कि 'गेट मोर टूल्स' विकल्प को चुनने के बाद भी इंस्टाग्राम अपने यूजर की गोपनीयता को सुरक्षित रख सकता है। क्योंकि अपनी निजी जानकारी साझा किए बिना भी यूजर के लिए ईमेल और कॉल करना संभव है। इंस्टाग्राम अपने नाबालिग यूजर के लिए ऐसा कर सकता है।

सत्यापन प्रक्रिया भी कमजोर
जब यूजर 'बिजनेस' प्रोफाइल के लिए साइन अप करते हैं तो कंपनी इसकी पुष्टि तक नहीं करती। इंस्टाग्राम ने निजी और प्रोफेशनल के बीच के अंतर को धुंधला कर दिया है। क्योंकि इतने सारे रेग्यूलर यूजर अपनी प्रोफाइल का उपयोग आर्थिक उद्देश्यों के लिए करते हैं ताकि उनकी कला, फोटोग्राफी या लाइफ स्टाइल एक ब्रांड बन जाए और उन्हें पोस्ट करने के बदले पैसे मिलने लगें। इंस्टाग्राम ने डिजिटल वल्र्ड में भी लोकप्रियता की प्रतियोगिता शुरू कर दी है। इंस्टाग्राम के अधिकारियों ने इसे स्वीकार भी किया है। उन्होंने ऐप से लाइक काउंट फीचर को हटाने का प्रस्ताव दिया है ताकि युवा यहीं फंसे न रह जाएं। यह प्रस्तावित परिवर्तन फिलहाल सात देशों में परीक्षण के दौर में है।