स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अब पिंकसिटी में भी दिखने लगा हैशटैग लॉगआउट कैंपन का असर

Abhishek Sharma

Publish: Aug 21, 2019 18:26 PM | Updated: Aug 21, 2019 18:26 PM

Special

बुधवार को पहली मीटिंग कर रेस्टोरेंट और कैफेज ओनर ने तोड़ा फूड डिलिवरी एप्स से नाता

जयपुर . फूड इंडस्ट्री में चल रहे इश्यू का असर अब पिंकसिटी में भी दिखाई देने लगा है। नेशनल रेस्टोरेंट्स ऑफ इंडिया, द फेडरेशन ऑफ होटल्स एंड रेस्टोरेंट्स ऑफ इंडिया और कैफेज एंड लाउंज वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से जेमेटो , स्विगी, ऊबर इट्स जैसे फूड डिलिवरी एप्स के खिलाफ शुरू किए गए कैंपन अब दिल्ली और मुंबई के अलावा अन्य शहरों में भी अपना असर दिखाने लगा है। इस क्रम में अब पिंकसिटी भी शामिल हो गया है। दरअसल पिंकसिटी में फूड डिलिवरी एप्स की नाराजगी को लेकर नेशनल रेस्टोरेंट्स ऑफ इंडिया के राजस्थान मेंबर्स की ओर से बुधवार को सहकार मार्ग स्थित एक रेस्त्रां में मीटिंग की गई। मीटिंग में यह तय किया गया है कि दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों की तर्ज पर अब पिंकसिटी के रेस्तरां मालिक भी अपनी फूड डिलिवरी एप्स से अपना नाता तोड़ेगे। रेस्टोरेंट्स और कैफेज के मालिकों ने कहा कि पिंकसिटी भी अब हैशटैग लॉगआउट कैंपन को सपोर्ट करते हुए आज से ही हमने फूड डिलिवरी एप्स से नाता तोड़ लिया है। उनका कहना है कि जब तक शहर के फूड डिलिवरी एप्स अपनी अनहैल्दी प्रेक्टिसेज को बंद नहीं करते हैं, तब तक हैशटेग लॉगआउट कैंपेन जयपुर में भी पूरी मजबूती के साथ चलता दिखाई देगा।

शहर के २६५ रेस्तरां शामिल
मीटिंग के दौरान मिली जानकारी के अनुसार जयपुर से हैशटेग लॉगआउट कैंपन को सपोर्ट करने के लिए पहले ही दिन २६५ रेस्टोरेंट्स एंड कैफेज का सपोर्ट मिला है। धीरे- धीरे इसकी संख्या में इजाफा हो रहा है। आने वाले दिनों में जयपुर के लगभग सभी रेस्टोरेंट्स और होटल्स में इसका असर देखने को मिलेगा।

क्या है इश्यू
दरअसल फूड डिलिवरी एप्स ने भी कई रेस्टोरेंट्स और कैफेज को अपने प्लेटफॉर्म से डिलिंक कर दिया है। इसका कारण रेस्टोरेंट्स ओनर्स से मिली जानकारी के अनुसार एसोसिएशन की ओर से सभी चर्चित फूड डिलिवर एप्स को मेल किया गया हैए जिसमें बिना रेस्टोरेंट कर्सन के डिस्काउंट अमाउंट तय करनाए कमीशन चार्जए लुक साइडए एग्रीमेंट वन साइड जैसे इश्यूज है।