स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वर्षों से ग्रामीणों को था बिजली का इंतजार, फिर पहुंची बिजली तो ग्रामीणों के साथ बिजली विभाग ने किया यह कारनामा, बिल देखकर ग्रामीणों में मचा हड़कंप..

Nitin Srivastva

Publish: Nov 18, 2019 16:21 PM | Updated: Nov 18, 2019 16:21 PM

Sitapur

वर्षों से ग्रामीणों को था बिजली का इंतजार, फिर पहुंची बिजली तो ग्रामीणों के साथ बिजली विभाग ने किया यह कारनामा, बिल देखकर ग्रामीणों में मचा हड़कंप

सीतापुर. जनपद में बिजली विभाग का एक नया कारनामा सामने आया हैं। यहां सिधौली कस्बे में बिना बिजली के विभाग द्वारा ग्रामीणों को पांच पांच लाख रुपये का बिल भेजने का मामला सामने आया हैं। किसानों के घर पहुंचे बिजली विभाग का यह बिल किसी घर पर गिरे बम के समान था। बिजली का बिल देखकर किसानों के होश उड़ गए और उन्होंने बिल को दुरुस्त कराने के लिए बिजली विभाग के दफ्तर के चक्कर काटने शुरू कर दिया हैं। पावर कॉर्पोरेशन की इस लापरवाही के चलते किसान परेशान हैं। किसानों का कहना हैं कि विभाग की लापरवाही का खामियाजा हम लोगों पर भुगतना पड़ रहा हैं और दफ्तरों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।


बिना बिजली के पहुंचा पांच लाख का बिल

मामला सिधौली कोतवाली क्षेत्र के कुनेरा गांव का हैं। ग्रामीणों के मुताबिक वर्ष 2006 में एक प्राइवेट कंपनी द्वारा गांव में विधुतीकरण कराया गया था और उस दौरान गांव के 35 किसानों के यहां बिजली के मीटर लगाकर यह वादा किया गया कि जल्द ही आप लोगों को बिजली मुहैया कराई जाएगी। लेकिन समय धीरे धीरे बीतता गया और यह समय वर्षों में तब्दील हो गया जिसका परिणाम यह रहा कि मीटर केवल शोपीस बनकर रह गए। मिली जानकारी के मुताबिक वर्ष 2018 में गांव में फिर से विधुतीकरण कराया गया और गांव में विधुत आपूर्ति शुरू हो गयी। इस दौरान ग्रामीणों को 2006 से 2018 के बीच बिजली बिल मुहैया कराए गए जिसको देखकर ग्रामीण हैरान और परेशान हो गए क्योंकि ग्रामीणों को जो बिल प्राप्त हुए वह लाखों की संख्या में थे। गांव के तकरीबन 35 ग्रामीणों को बिजली बिल अधिक आने पर अब वह विधुत विभाग के चक्कर काट कर अपने बिल सही करवाने में लगे हुए हैं। बिजली विभाग के अधिकारियों का कहना हैं कि ग्रामीणों को परेशान होने की जरूरत नही हैं अगर किसी का बिल गलत आया है तो उसे सही करा दिया जाएगा।

[MORE_ADVERTISE1]