स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कमलेश तिवारी हत्याकांड : मां- पत्नी ने मिलकर कहा- दो सदस्यों को दे सरकारी नौकरी, फिर सीएम योगी करें ये काम, तब ही होगा अंतिम संस्कार

Ruchi Sharma

Publish: Oct 19, 2019 12:14 PM | Updated: Oct 19, 2019 12:14 PM

Sitapur

कमलेश तिवारी हत्याकांड : मां- पत्नी ने मिलकर कहा- दो सदस्यों को दे सरकारी नौकरी, फिर सीएम योगी करें ये काम, तब ही होगा अंतिम संस्कार

सीतापुर. राजधानी लखनऊ में कमलेश तिवारी की हत्या के बाद अब मामला तूल पकड़ गया हैं। देर रात लखनऊ से सीतापुर के महमूदाबाद पहुंचे शव को लेकर परिजनों के साथ साथ लोगों का हुजूम उमड़ने लगा हैं। परिजनों ने लखनऊ पुलिस के रवैये से परेशान होकर अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया हैं। परिजनों ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया हैं। परिजनों ने लखनऊ एसएसपी समेत नाका थाना के पुलिस कर्मियों को सस्पेंड करने की भी मांग की हैं। परिजनों का कहना हैं कि जब तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा तब तक शव का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा। परिजनों ने कहा दो सदस्यों के लिए सरकारी नौकरी की मांग की। साथ ही कहा जब तक सीएम योगी नहीं आएंगे तब तक अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा।


परिजनों ने बयां किया दर्द

देर रात लखनऊ से सीतापुर पहुंचे मृतक के परिजनों ने पुलिस की बर्बरता की कहानी बयां की हैं। परिजनों का आरोप हैं कि देर रात शव को वह लखनऊ स्थित आवास पर लाकर समर्थकों को अंतिम दर्शन कराकर अंतिम संस्कार करना चाहते थे लेकिन पुलिस और यूपी सरकार ने हम लोगों पर लाठियां भांजी और शव को लाकर सीतापुर फेंक दिया। परिजनों का आरोप हैं कि कमलेश तिवारी को लगातार जिहादियों की तरफ से धमकी भरे फ़ोन आते रहे जिसको लेकर सरकार से सुरक्षा की मांग की गई लेकिन योगी सरकार के कानों पर जूं तक नही रेंगी और इसी का नतीजा हैं कि उनकी घर मे घुसकर हत्या कर दी गयी। परिजनों ने सीएम योगी के घर आने और एसएसपी लखनऊ समेत नाका थाना के पुलिसकर्मियों को तत्काल सस्पेंड करने की मांग की हैं और जब तक कमलेश तिवारी को राष्ट्रीय सम्मान नही दिया जाता हैं तब तक शव का अंतिम संस्कार नही किया जाएगा। परिजनों ने कहना हैं कि जब तक उनकी इन मांगों को पूरा नही किया जाएगा तब तक शव का अंतिम संस्कार नही किया जाएगा। वहीं पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी परिजनों के मनाने में जुटे हुए हैं।