स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की पेरोल के समर्थन में सरकार, यह बताई वजह

Prateek Saini

Publish: Jun 24, 2019 19:40 PM | Updated: Jun 24, 2019 19:40 PM

Sirsa

Gurmeet Ram Rahim: ऐसा करने के पीछे सरकार ने ( Haryana Government ) राम गुरमीत राम रहीम ( Gurmeet Ram Rahim ) के अच्छे आचरण का हवाला दिया है...

(चंडीगढ,सिरसा): साध्वी बलात्कार मामलों में वर्ष 2017 में बीस साल की सजा के लिए जेल भेजे गए हरियाणा के सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा ( Dera Sacha Sauda ) के प्रमुख गुरमीत राम रहीम ( gurmeet ram rahim ) की पेरोल पर रिहाई का राज्य सरकार ने समर्थन किया है। गुरमीत राम रहीम ने अपने खेतों की संभाल के लिए पेरोल पर रिहाई के लिए हाल में पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ( Punjab and Haryana High Court ) में याचिका दायर की थी।

 

हाईकोर्ट में इस याचिका पर सुनवाई के सिलसिले हरियाणा सरकार ( Haryana government ) से जवाब मांगा गया था। सरकार ने अपने जवाब में कहा है कि पेरोल एक्ट और जेल में अच्छे चाल-चलन के तहत गुरमीत राम रहीम ( Gurmeet Ram Rahim ) को पेरोल पर रिहा किया जा सकता है। जेल मंत्री कृष्ण लाल पंवार ( Jail Minister Krishan Lal Panwar) ने इस बारे में कहा कि जेल अधीक्षक ने अपनी रिपोर्ट में गुरमीत राम रहीम ( Ram Rahim ) के चाल-चलन को अच्छा बताया है। अब इस बारे में पुलिस ( haryana police ) अपनी रिपोर्ट देगी और फिर आयुक्त इस बारे में फैसला करेंगे। उन्होंने कहा कि पेरोल एक्ट के तहत किसी भी अपराधी को सजा शुरू किए जाने के दो साल बाद पेरोल पर रिहाई का अधिकार है। इसमें जेल में अच्छे चाल-चलन के आधार पर फैसला किया जाता है।

 

हरियाणा के वरिष्ठ केबिनेट मंत्री अनिल विज ( Anil Vij ) ने कहा कि किसी भी अपराधी को पेरोल पर रिहाई पाने का अधिकार है। यदि नियमों के तहत गुरमीत राम रहीम ( Gurmeet Ram Rahim ) को पेरोज मिलती होगी तो मिल जायेगी। सरकार मौजूदा कानून के तहत ही गुरमीत राम रहीम ( Ram Rahim ) को पेरोल का लाभ देगी। कोई अलग से राहत नहीं दी जायेगी। हरियाणा के गृह सचिव एसएस प्रसाद ने कहा कि बलात्कार के दोषी को भी पेरोल मांगने का अधिकार है। पेरोल गुड प्रिजनर एक्ट के तहत ही दी जायेगी। लेकिन दूसरी ओर इस बात की आशंका जताई जा रही है कि गुरमीत राम रहीम ( Ram Rahim ) अपने खिलाफ रणजीत सिंह हत्याकांड के साक्ष्यों को प्रभावित कर सकते है। वे कानून-व्यवस्था की समस्या भी खडी कर सकते है। हाल में पंजाब की नाभा जेल में गुरूग्रंथ साहिब के अपमान के मामलों में अभियुक्त महिंन्दरपाल बिट्टू की हत्या से पंजाब में डेरा समर्थक आंदोलन की राह पर है। गुरमीत राम रहीम के बाहर आने पर यह आंदोलन और भडक सकता है।

 

यह भी पढे: डेरासच्चा सौदा में साधुओं को नपुंसक बनाने का मामला