स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भाजपा पार्षदों ने कहा- उनके वार्ड में नहीं हो रहे विकास कार्य] अध्यक्ष बोले- कांग्रेस कार्यकाल में निरस्त हुई एक करोड़ की निविदाएं

Amar Singh Rao

Publish: Oct 19, 2019 10:02 AM | Updated: Oct 19, 2019 10:02 AM

Sirohi

आबूरोड नगरपालिका मंडल की एक वर्ष बाद हुई सामान्य बैठक हंगामेदार रही

आबूरोड. नगरपालिका मंडल की एक वर्ष बाद पालिकाध्यक्ष सुरेश सिंदल की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई बैठक में भाजपा के ही पार्षदों ने भाजपा बोर्ड होने के बावजूद विकास कार्य नहीं करने का आरोप लगाया। बैठक में मामले को लेकर भाजपा व कांग्रेस पार्षदों के बीच तीखी नोकझोंक हुई। भाजपा पार्षद रेखा जीनगर व आशा बंजारा ने कहा कि गत तीन वर्ष से विभिन्न कार्यों के लिए पालिका प्रशासन को अवगत करवाने के बावजूद आज दिन तक कार्य नहीं हुए। वहीं भाजपा पार्षद विजय गोठवाल ने उनके वार्ड में अधूरे पड़े मुख्य नाले के निर्माण कार्य व पार्षद रितेश सिंह चौहान व मदन सिंह ने रेलवे कॉलोनी से महावीर टॉकीज तक सीसीरोड बनाने के लिए कई बार मांग करने के बावजूद कार्रवाई नहीं की गई। इस पर नेता प्रतिपक्ष नरगिस कायमखानी, पार्षद कांति परिहार व योगेश सिंघल ने कहा कि भाजपा बोर्ड में भाजपा के ही पार्षदों के कार्य नहीं हो रहे हैं, तो आमजन के कार्य कैसे होंगे। इस पर पालिकाध्यक्ष ने जवाब देेते हुुए कहा कि भाजपा के कार्यकाल में सर्वाधिक विकास कार्य हुए हैं। एक वर्ष में करीब एक करोड़ की निविदाएं निकाली गई थी। जिसे कांग्रेस कार्यकाल में पूर्व ईओ ने निरस्त कर दी। इस पर कांग्रेस पार्षदों ने राज्य सरकार की छवि खराब करने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। बैठक की शुरुआत में पालिकाध्यक्ष ने बैठक के एजेंडे को दोहराते हुए पालिका कर्मियों के नियमितीकरण व पदोन्नति पर चर्चा करने की बात कही। जिस पर कांग्रेस पार्षदों ने उन्हें कर्मचारियों की जानकारी नहीं होने का हवाला देते हुए नियमित किए जा रहे कर्मचारियों की सूची मांगी। इस दौरान नवीन भर्ती के सफाई कर्मचारियों व जिन कर्मचारियों की जांच जारी है, उनके नियमितीकरण को रोकने व शेष कर्मचारियों के नियमितीकरण करने का प्रस्ताव लिया गया।

नगरपालिका भवन शहर से दूर बनाने पर पार्षदों ने जताया रोष
बैठक में नगरपालिका भवन के शांतिकुंज पार्क में चिह्नित स्थान पर राज्य सरकार से अनुमति नहीं मिलने पर उसे आकराभट्टा में पालिका भूमि पर ले जाने का मुद्दा उठा। इस पर सभी पार्षदों ने ध्वनि मत से प्रस्ताव का विरोध किया। पार्षदों का कहना था कि पहले ही आकराभट्टा सरकारी अस्पताल बनाकर शहरवासियों को चिकित्सा सुविधा से दूर कर दिया गया है। अब पालिका भवन को शहर से दूर बनाकर रोजमर्रा के कार्यों के लिए तीन किलोमीटर आवाजाही करनी पड़ेगी। पार्षद दीपक सैनी ने अस्पताल को आकराभट्टा में बनाने को लेकर रोष जताते हुए कहा कि तीन किलोमीटर दूर अस्पताल बनाकर पालिका ने आमजन को चिकित्सा सुविधा से वंचित किया है। बैठक में आमजन के हित के कार्य नहीं हो रहे हैं। केवल सड़कें नालियां बनाने पर ध्यान दिया जा रहा है। इसके बाद नाराज पार्षद बैठक से उठकर चले गए।

लम्बित पत्रावलियों को लेकर रोष, किया प्रस्ताव पारित
पालिका क्षेत्र के लोगों के आसपास के इलाकों में शादी करने पर विवाह पंजीयन से इनकार करने व लंबित पत्रावलियों को लेकर भाजपा व कांग्रेस पार्षदों ने विरोध जताया। पालिका ईओ पर एनओसी जारी करने को लेकर नए नियम लगाने का आरोप लगाया। जिस पर ईओ ने कहा कि नियमानुसार ही सभी कार्य किए जा रहे हैं। पार्षद रितेशसिंह चौहान कहा कि विवाह पंजीयन, कच्ची बस्ती व कच्चे पट्टे पर बिजली पानी की एनओसी के लिए लोग कार्यालय के धक्के खा रहे हैं। एनओसी के लिए घर के बाहर फोटो खिंचवाने का नया नियम लागू किया गया है। नामांतरण नक्शे की करीब 1100 फाइलें लम्बित है। एक कर्मचारी के भरोसे पूरी शाखा का कार्य हो रहा हैं। पार्षद ने शाखा में कार्यों का शीघ्र निस्तारण के लिए चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी लगाने व कम्प्यूटर ऑपरेटर लगाने, आपत्ति आमंत्रण विज्ञापन पालिका की ओर से देने की मांग की गई। पत्रावलियों को शीघ्रता से निपटाने के लिए प्रस्ताव पारित किया गया।

बताए विकास कार्य
बैठक में वार्ड वार विभिन्न पार्षदों ने अपने-अपने क्षेत्र की समस्याएं बताते हुए विकास कार्य करवाने की मांग की। पार्षद अनुराधा जैन व पूजा राणा ने अपने वार्ड में पालिका के सफाई कर्मचारियों के नियमित सफाई नहीं करने की शिकायत करते हुए ठेके पर सफाई की मांग की। पार्षदों ने रोड व नालियों के कार्य करवाने की मांग की। वहीं गुणवत्ताहीन कार्यों पर जांच करवाने व भुगतान रोककर ठेकेदार को ब्लेकलिस्ट करने की मांग की। विभिन्न शाखाओं की 9 फाइले चोरी होने के मामले में अग्रिम कार्रवाई करने की मांग की गई।

कांग्रेस पार्षद - बोर्ड में भाजपा पालिका उपाध्यक्ष की भी नहीं होती सुनवाई
पालिका उपाध्यक्ष गणेश आचार्य के पालिकाध्यक्ष से पुराना चैकपोस्ट क्षेत्र में सुलभ शौचालय बनाने की मांग की। इस पर पार्षद कांति परिहार ने उन्हें रोकते हुए कहा कि आप यह मांग कई बार उठा चुके हैं, लेकिन भाजपा बोर्ड होने के बावजूद आपकी कोई सुनवाई नहीं होती है। इस पर उपाध्यक्ष ने कहा कि ये मेरी निजी मांग नहीं आमजन की समस्या है। मामले को लेकर दोनों के बीच बहस चली। जिस पर पालिकाध्यक्ष ने जगह चिह्नित करने व पूर्व में निकाली गई निविदाएं निरस्त करने का हवाला दिया। बैठक में पार्षद आबेदा बेगम ने भाजपा पार्षद मोहन राणा पर पालिका शौचालयों पर अतिक्रमण करने की शिकायत की। जिस पर ईओ ने मामले की जांच करवाने का आश्वासन दिया।

सफाई कर्मचारियों को अन्य कार्य में लगाने पर रोष
सफाई कर्मचारियों के नियमितीकरण के मुद्दे पर नेता प्रतिपक्ष नरगिस कायमखानी ने पालिका ईओ पर कुछ कर्मचारियों को अपने आवास पर लगाने का मुद्दा उठाते हुए विरोध जताया। उन्होंने कहा कि वर्ग विशेष के सफाई कर्मचारियों को अन्य कामकाजों पर लगाया जा रहा है। दो कर्मचारियों को पालिका आवास पर दो पारियों में लगाया गया है। वहीं पार्षद आबेदा बेगम ने भर्ती में अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए वेल में आकर विरोध जताया। उन्होंने दूसरे कार्यों में लगाए कर्मचारियों को सफाई में लगाने की मांग कर कार्रवाई नहीं होने पर कर्मचारियों के साथ धरना प्रदर्शन की चेतावनी दी।