स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मंत्री बोले, शराब दुकान स्वीकृति में गड़बड़ी तो अधिकारियों पर होगी कार्रवाई

rohit sharma

Publish: Jul 17, 2019 18:29 PM | Updated: Jul 17, 2019 18:29 PM

Sirohi

Liquor Shop Allotment Rule in Rajasthan : प्रदेश में शराब की दुकान स्वीकृति के नियम ( Liquor Shop Allotment Rule ) अब कड़े होने जा रहे हैं। यदि Wine Shop Allotment में अनियमितता पाई गई तो अधिकारियों ( Excise officer ) के खिलाफ कार्यवाही होगी।

सिरोही। प्रदेश में शराब की दुकान स्वीकृति के नियम ( Liquor Shop Allotment Rule ) अब कड़े होने जा रहे हैं। यदि शराब की दुकान स्वीकृति में अनियमितता पाई गई तो अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही होगी। राजस्थान सरकार ( Rajasthan Government ) में संसदीय कार्य मंत्री शान्ति धारीवाल ( Shanti Dhariwal ) ने कहा कि मामले की जांच होगी और दोषी पाए जाने पर आबकारी अधिकारी पर कार्यवाही होगी।

ऐसे ही एक मामले के प्रश्न पर मंत्री धारीवाल ने बुधवार को विधानसभा में जबाव देते हुए कहा कि सिरोही जिले के सिंदरथ गांव को शहरी क्षेत्र बताकर शराब की दुकान खोलने की अनुमति देने के मामले में जिला आबकारी अधिकारी ( Excise officer ) तथा आबकारी निरीक्षक के विरूद्ध कार्यवाही की गई है तथा दुकान की जगह बदल दी गई है।

मंत्री धारीवाल ने सिरोही विधानसभा क्षेत्र ( Sirohi Assembly ) में शराब की दुकानों की स्वीकृति में अनियमितताओं और न्यायिक आदेशों की पालना नहीं करने के संबंध में उठाये गये सवाल पर जबाव दिया।

उन्होंने कहा कि सिरोही जिले के सिंदरथ गांव को शहरी क्षेत्र में बताते हुए शराब की दुकान खोलने की स्वीकृति दे दी गई थी। शिकायत मिलने पर मामले की जांच करवाई गई और इस मामले में दोषी पाये गये आबकारी निरीक्षक को 16 सीसीए का नोटिस देते हुए एपीओ कर दिया गया है। साथ ही जिला आबकारी अधिकारी को लापरवाही के लिए नोटिस दिया गया है।

संसदीय कार्य मंत्री ने बताया कि यदि कहीं ओर भी शराब की दुकान खोलने की गलत तरीके से स्वीकृति दी गई है तो उसकी भी जांच कर कार्यवाही की जाएगी।

 

माउंट आबू में कांच की बोतल में नहीं मिलेगी बीयर ( Liquor/Beer Bottle Ban in Mount Abu )

वहीं, सिरोही जिले से जुड़ा शराब का अन्य मामला आपको बताते हैं। सिरोही जिले के माउंट आबू में प्रशासन ने सख्ती दिखाते हुए कांच की बोतलों में बीयर नहीं बेचे जाने के निर्देश दिए हैं।अब कांच की बोतल की जगह बीयर कैन बेचीं जाएगी।

दरअसल, कुछ दिनों पहले माउंट आबू की नक्की झील ( nakki lake ) की सफाई की गई थी। इस दौरान झील से निकले कचरे में करीब 40 हजार कांच की बीयर बोतलें बाहर निकाली गईं। कांच की बोतलों के कारण बढ़ रहे वन्य जीवों, पर्यावरण व नक्की झील के लिए बढ़ते खतरे को देखते हुए प्रशासन ने ये फैसला लिया है।