स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मासूमों पर दरिंदों की बुरी नजर, अब तक 58 बन चुकीं शिकार, जानिए क्या है वजह

Amit Pandey

Publish: Dec 13, 2019 14:01 PM | Updated: Dec 13, 2019 14:01 PM

Singrauli

अब तक की घटनाओं में ज्यादातर नाबालिग....

सिंगरौली. जीवन में स्वच्छंद सपनों को संजोए राह की ओर चल पड़ी थी कि मानों उसकी जिंदगी थम सी गई। उनकी राह में दर्द के रोड़े पडऩे लगे। जी, हां कुछ ऐसा ही हाल जिले में मासूम बच्चियों का है। महिलाओं से ज्यादा नाबालिग लड़कियां दरिदंगी का शिकार हुई हैं। यहां महिला सुरक्षा को लेकर बातें तो खूब होती हैं लेकिन मैदानी हकीकत सिफर के बराबर है। सरकारी पन्नों में दर्ज पॉक्सो एक्ट के आंकड़ें न केवल डराते हैं बल्कि यह भी दर्शाते हैं कि यहां नाजों में पल रही मासूमों पर दरिंदे जुर्म ढहा रहे हैं।

घर में मां और बहन का दर्जा देने वाले इस पढ़े लिखे समाज का हिस्सा ऐसा हो गया है कि मासूमों की हंसती खेलती जिंदगी तबाह कर दे रहा है। जिले में मासूमों पर अत्याचार के मामले महज बानगी ही है। देखा जाए तो जनवरी से नवंबर तक में करीब 58 मासूम बच्चियां दरिंदगी का शिकार हुई हैं। इस गंभीर समस्या को सुनकर सभ्य समाज भी दांतो तले उंगली दबा लेता है। यहां राह चलते नाबालिग लड़कियों को बदमाश अगवा कर ले जा रहे हैं। घर से बाहर निकलने में वो भयभीत रहती हैं।

गरीबी व अशिक्षा भी कारण
महिला अत्याचार के खिलाफ काम कर रही समाज सेवी संस्थाओं का मानना है कि ऐसे अपराध गरीबी व अशिक्षा के कारण होते हैं। गांवों में जागरूकता लाने की जरूरत है। साथ ही पुलिस का आपेक्षित सहयोग नहीं मिलने के कारण पीडि़तों की आवाज धार बनकर सिमट जाती है। पीडि़तों को जुर्म के साथ बेतूके बोल के साथ भी जुझना पड़ता है। तमाम परिस्थितियों का सामना करने के बावजूद भी उन्हें न्याय नहीं मिलने में कठिनाइयां आती हैं।

झकझोर देने वाली घटनाएं:

केस-एक
विंध्यनगर थाना क्षेत्र में एक छात्रा को अगवा कर चलती कार में उसके साथ बदमाशों ने गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया था। हालांकि पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है लेकिन यह घटना लोगों को झकझोर देने वाली थी।

केस-दो
बंधौरा चौकी क्षेत्र में एक नाबालिग का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म करने के बाद आरोपी ने उसकी हत्या कर दिया था। पुलिस की किरकिरी होने के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

यह है स्थिति:
माह घटनाओं की संख्या
जनवरी - 06
फरवरी - 04
मार्च - 04
अप्रेल - 04
मई - 05
जून - 06
जुलाई - 07
अगस्त - 04
सितंबर - 07
अक्टूबर - 07
नवंबर - 03
नोट:- एसपी कार्यालय से प्राप्त आंकड़ें 30 नवंबर की स्थिति में

[MORE_ADVERTISE1]