स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महिला की संदिग्ध मौत के मामले में नया मोड़ : पति ही निकला कातिल

Amit Pandey

Publish: Dec 14, 2019 14:49 PM | Updated: Dec 14, 2019 14:49 PM

Singrauli

गोरबी चौकी क्षेत्र के महदेइया गांव का मामला....

सिंगरौली. मोरवा थाना क्षेत्र के गोरबी चौकी अंतर्गत महदेइया गांव में हुई महिला की संदिग्ध मौत के मामले में नया मोड़ आ गया है। महिला की साधारण मौत नहीं बल्कि उसकी हत्या किया गया। इसका खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट में होने के बाद गोरबी चौकी पुलिस ने आरोपी पति को गिरफ्तार कर पूछताछ किया तो आरोपी पति ने जुर्म कबूल करते हुए पत्नी की हत्या करना पुलिस को बताया। पति के खिलाफ हत्या का मामला दर्जकर पुलिस ने उसे जेल भेज दिया है।

जानकारी के मुताबिक नौढिय़ा निवासी रेखा केवट की शादी प्रेम प्रसंग में बीते तीन वर्षपहले महदेइया गांव के सुरजीत साकेत पिता जगजीवन लाल साकेत के साथ हुईथी।शादी के एक साल बाद दोनों के बीच एक-दूसरे के शक को लेकर विवाद होने लगा। मंगलवार को दोनों के बीच हुए विवाद में आरोपी सुरजीत साकेत ने उसके सिर पर हमला कर उसे गंभीर चोट पहुंचाई। जिससे उपचार के दौरान रेखा की मौत हो गई। मृतिका के भाई व मां ने पति पर मारपीट का आरोप लगाते हत्या बताया था। जो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद स्थिति साफ हो गईऔर पुलिस ने आरोपी पति को को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश करने के बाद जेल भेज दिया है।

यह है मामला
पुलिस के बताया कि नौढिय़ा निवासी मृतिका रेखा का प्रेम विवाह 2016 में महदेइया के सुरजीत साकेत के साथ हुआ था। शादी के 3 वर्ष बाद पत्नी पर शक की वजह से रिश्ते में खटास आ गई। इस बात को लेकर रेखा केवट अपने पति से तलाक की मांग कर रही थी। इसे लेकर आए दिन दोनों के बीच विवाद भी होता रहता था। बीते नवंबर को दोनों के बीच हुए विवाद का मामला थाने पहुंच चुका है। बीते मंगलवार को फिर शुरू हुए विवाद में पति ने स्टंप से सिर पर प्रहार कर दिया था।

नेहरू में उपचार के दौरान हुई मौत
रेखा केवट को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उसकी गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे नेहरू चिकित्सालय रेफर कर दिया। इस दौरान उसका पति सुरजीत साकेत भी नेहरू अस्पताल पहुंच गया था। रेखा केवट के सिर में आई अंदरूनी चोटों के कारण उसकी हालत बिगड़ती गई। जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई थी।

एसपी के निर्देश पर हुई कार्रवाई
एसपी अभिजीत रंजन के निर्देश पर टीआई मोरवा एनपी सिंह के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम में शामिल गोरबी चौकी प्रभारी संदीप नामदेव, सहायक उपनिरीक्षक संपत तिवारी, प्रधान आरक्षक अरुण सिंह, आरक्षक त्रिवेणी तिवारी, विष्णु रावत, कयामुद्दीन अंसारी ने आरोपी के खिलाफ हत्या का मामला दर्जकर उसे गिरफ्तार करते हुए न्यायालय में पेश करने के बाद जेल भेज दिया है।

[MORE_ADVERTISE1]