स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ऐश डैम टूटने की घटना में सामने आई लापरवाही

Ajit Shukla

Publish: Aug 18, 2019 12:24 PM | Updated: Aug 18, 2019 12:24 PM

Singrauli

एसडीएम ने कलेक्टर को सौंपी जांच रिपोर्ट....

सिंगरौली. एस्सार पावर के ऐश डैम टूटने के मामले की जांच रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दी गई है। एसडीएम के नेतृत्व में गठित समिति ने शनिवार को कलेक्टर केवीएस चौधरी को अपनी रिपोर्ट सौंपा।

सात अगस्त की रात ऐश डैम टूटने की वजह में कंपनी की लापरवाही सामने आई है। जांच समिति का गठन कलेक्टर ने घटना स्थल का मुआयना करने के बाद किया था। डैम टूटने की घटना में कर्सुआलाल व खैराही गांव में भारी नुकसान हुआ है।

एसडीएम माड़ा विकास सिंह के नेतृत्व में गठित जांच समिति ने कलेक्टर को अपनी रिपोर्ट सौंप कर घटना में कंपनी की लापरवाही करार दिया है। जांच रिपोर्ट के मुताबिक ऐश डैम के टूटने की मुख्य वजह यह रही कि उसका मेड़ निर्धारित मानक के अनुरूप तैयार नहीं किया गया था। मेड़ निर्माण में केवल मिट्टी व राख का उपयोग पाया गया है।

बोल्डर व छोटी कंक्रीट से पिचिंग नहीं किया गया बताया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक बांध के मेड़ में दरार होने और घटना से पहले अत्यधिक वर्षा होने के चलते डैम में जल भराव हो गया, जिससे डैम टूट गया और डैम का मलबा पानी के साथ बह निकला। गंदे पानी के फैलाव के कारण आस-पास के रहवासियों पर इसका दूषित प्रभाव पड़ा है।

कंपनी से जमाया जा रहा क्षतिपूर्ति
इधर गांव में हुए नुकसान की भरपाई में जिला प्रशासन कंपनी से क्षतिपूर्ति के लिए राशि जमा रहा है। कंपनी ने कलेक्टर के निर्देश पर 50 लाख रुपए की राशि जमा भी कर दी है। माना जा रहा है कि पर्यावरणीय सहित अन्य क्षति के रूप में कंपनी पर 10 लाख रुपए का और भार पड़ सकता है।

पर्यावरण क्षति की दृष्टि से भी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से नुकसान का सर्वे किया जा रहा है। फिलहाल कंपनी के अधिकारियों का कहना है कि डैम के टूटने में उनकी लापरवाही नहीं है। ग्रामीणों की ओर से डैम को क्षति पहुंचाया गया है, जिससे यह घटना हुई है।