स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जनाब! जानलेवा होगी आनन-फानन में बनाई जा रही सडक़

Ajit Shukla

Publish: Dec 14, 2019 13:54 PM | Updated: Dec 14, 2019 13:54 PM

Singrauli

खतरनाक मोड़ पर स्पीड ब्रेकर व जेब्रा साइन नजर अंदाज....

सिंगरौली. दो लेन की गड्ढायुक्त सडक़ का डामरीकरण। फर्राटा भरने के लिए तो सुविधाजनक साबित होगी, लेकिन इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि दुर्घटनाओं में इजाफा होगा। वजह निर्माण के दौरान खतरनाक मोड़ को नजरअंदाज किया जाना है। बात माजन मोड़ से विंध्यनगर चौराहे तक बनाई जा रही सडक़ की कर रहे हैं।

माजन मोड़ से विंध्यनगर जाने वाली मुख्य सडक़ में एक दर्जन के करीब एेसे मोड़ हैं जो दुर्घटनाओं को दावत देने वाले हैं। इन खतरनाक मोड़ में कई तो स्थाई हैं और कई को अस्थाई तौर पर डिवाइडर तोड़ कर बना लिया गया है। हैरत की बात यह है कि इन खतरनाक मोड़ को सडक़ के डामरीकरण के दौरान नजरअंदाज किया जा रहा है। यह हाल तब है जबकि दुर्घटना के मद्देनजर खुद पुलिस ने मोड़ पर स्टॉप बैरियर लगा रखा है।

सडक़ के खतरनाक मोड़ पर दुर्घटना न हो, इसके लिए जरूरी है कि वहां स्पीड ब्रेकर के साथ जेब्रा साइन बनाए जाएं। ताकि न केवल वाहन चालकों की रफ्तार पर बल्कि दुर्घटनाओं पर लगाम लगाई जा सके। गौरतलब है कि निर्माण एजेंसी अब तक बनाई गई सडक़ में कई खतरनाक मोड़ को नजर अंदाज कर चुका है। आगे के निर्माण में भी कुछ एेसा ही इरादा जान पड़ रहा है।

जिम्मेदार अधिकारियों को गौरफरमाने की जरूरत
निर्माण एजेंसी जिस तरह से खतरनाक मोड़ के पहले और बाद में स्पीड ब्रेकर बनाने में कोताही बरत रही है, इससे यही जान पड़ रहा है कि जिम्मेदार अधिकारी इस गौर फरमाने की जरूरत नहीं समझ रहे हैं। अधिकारियों को गौर करने की जरूरत है। ताकि सडक़ बनने के बाद सुविधा के साथ सुरक्षा भी बनी रहे।

निर्माण में गुणवत्ता पर भी उठ रही उंगली
सडक़ निर्माण में गुणवत्ता को लेकर भी उंगली उठ रही है। दरअसल सडक़ में कई जगह डामरीकरण के बाद गिट्टी दिखाई दे रही है। इसके अलावा सडक़ के बॉर्डर यानी फुटपाथ से लगे सिरे को भी दुरुस्त करने के बजाए यूं ही छोड़ दिया जा रहा है। इससे सडक़ बन कर तैयार होने से पहले ही उखडऩे लगी है।

[MORE_ADVERTISE1]