स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खाद के लिए अन्य जिलों पर नहीं होना होगा निर्भर, एनएफएल जिले में बनाएगी रैक प्वाइंट

Amit Pandey

Publish: Sep 19, 2019 10:56 AM | Updated: Sep 19, 2019 10:56 AM

Singrauli

यूरिया व डीएपी की आपूर्ति में होगा लाभ.....

सिंगरौली. राज्य के एक किनारे बसे जिले का रासायनिक खाद बनाने वाली सरकारी क्षेत्र की कंपनी नेशनल फर्टिलाइजर लिमिटेड से सीधा नाता जुडऩे जा रहा है। खुशखबरी ये है कि इससे यूरिया व डीएपी की पूर्ति के लिए हमारी दूसरे जिलों पर निर्भरता से पीछा छूट जाएगा। अब तक यही स्थिति है। इस कारण खरीफ व रबी सीजन में जिले में यूरिया व डीएपी की कमी का खतरा डराता रहता है। खबर है कि नेशनल फर्टिलाइर लिमिटेड एनएफएल सिंगरौली जिले में अपना रैक प्वाइंट खोलने पर सहमत हो गई। एनएफएल ने बरगवां स्टेशन को अपने रैक प्वाइंट के लिए चुना है। कंपनी बरगवां से ही जिले में स्थापित सहकारिता विभाग के केन्द्रीय गोदाम व ग्राम समितियों तक यूरिया व डीएपी पहुंचाने का काम भी करेगी। एनएफएल ने बाकायदा इसके लिए प्रक्रिया शुरु की है। इसके तहत खाद परिवहन के लिए 19 सितम्बर को टैंडर प्रक्रिया पूरी की जाएगी। एनएफएल का ये फैसला प्रशासन व सहकारिता विभाग के लिए राहत लेकर आया है।

जिले में खरीफ व रबी सीजन में लगभग पांच हजार टन यूरिया व डीएपी की खपत होती है। इतनी बड़ी मात्रा में रासायनिक खाद जुटाना मुश्किल होता था। जिले में एनएफएल की ओर से रेल के जरिए इनकी आपूर्ति के लिए रैक प्वाइंट मंजूर नहीं था। इस कारण जिले को सतना या रीवा से सडक़ मार्ग से यूरिया व डीएपी की आपूर्ति की जाती थी मगर सडक़ों की खराब हालत के कारण ट्रांसपोर्टर सतना या रीवा से यहां तक खाद परिवहन नहीं करते थे। इस कारण हर सीजन में जिले को मांग के मुकाबले कम मात्रा में यूरिया व डीएपी की आपूर्ति मिल पाती थी। इस हालत मेंं सीजन में यूरिया व डीएपी के संकट का डर बना रहता है। संकट होने पर किसानों का रोष भडक़ने से इनकार नहीं किया जा सकता।

इस समस्या से छुटकारे का उपाय जिले को एनएफएल से यूरिया व डीएपी की रेल मार्ग से सीधी आपूर्ति ही है। इसके लिए जिला प्रशासन की ओर से एनएफएल से लगातार पत्राचार किया गया। इसके नतीजे में अब एनएफएल ने जिले के बरगवां स्टेशन पर अपना रैक प्वाइंट मंजूर कर हमारे लिए यूरिया व डीएपी आपूर्ति के रास्ते का बैरियर हटा दिया है। सतना स्थित एनएफएल के क्षेत्रीय कार्यालय की ओर से इस आशय की सूचना दी गई है। अब एनएफएल की ओर से यूपी स्थित अपने कारखाने से जिले को रेल मार्ग से बरगवां स्टेशन तक यूरिया व डीएपी पहुंचाई जाएगी। बताया गया कि इससे जिले को हर सीजन में मांग के अनुसार ही रासायनिक खाद उपलब्ध हो सकेगी।

19 को होगी टेंडर प्रक्रिया
एनएफएल के क्षेत्रीय कार्यालय के स्तर पर बरगवां स्टेशन के रैक प्वाइंट से सहकारिता विभाग के केन्द्रीय गोदाम व ग्राम सेवा समितियों तक रासायनिक खाद परिवहन के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरु कर दी गई है। यह प्रक्रिया दो दिन बाद गुरुवार को सतना में पूरी होगी। इसके तहत एनएफएल की ओर से बरगवां स्टेशन से जिले के संबंधित स्थानों तक सडक़ मार्ग से यूरिया व डीएपी के परिवहन का टेंडर किया जाएगा। इसके लिए एनएफएल ने ट्रांसपोर्टर से टेंडर मांगे हैं। माना जा रहा है कि इससे जिले में रबी या खरीफ किसी भी सीजन में यूरिया व डीएपी की कमी का खतरा टल जाएगा।