स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नवजातों की जान पर मंडऱा रहा खतरा, जन्म के बाद इलाज के लिए जाना पड़ रहा पुरानी बिल्डिंग, जानिए क्या है वजह

Amit Pandey

Publish: Nov 09, 2019 14:59 PM | Updated: Nov 09, 2019 14:59 PM

Singrauli

नई बिल्डिंग में गायनी वार्ड.....

सिंगरौली. गायनी वार्ड में जन्म ले रहे बच्चों की जान पर खतरा मडऱा रहा है। इसका वजह यह कि स्वास्थ्य विभाग ने गायनी वार्ड को नई बिल्डिंग में शिफ्ट कर दिया है। वहीं एसएनसीयू व बच्चा वार्ड पुराने भवन में यथावत है। इससे जन्म ले रहे नवजात को इलाज की जरूरत पड़ी तो पुराने भवन का चक्कर लगाना पडता है। इसलिए अब नई बिल्डिंग में एसएनसीयू व बच्चा वार्ड की जरूरत महसूस की जा रही है। फिलहाल यह शिफ्ट होने में अभी देर लगेगी। फिर भी अस्पताल प्रबंधन ने बच्चा वार्ड व एसएनसीयू को शिफ्ट करने की कवायद शुरू कर दी है।

जानकारी के लिए बतादें कि नई बिल्डिंग में सबसे पहले ओपीडी को शिफ्ट किया गया। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन ने गायनी वार्ड को आनन-फानन में शिफ्ट करते हुए प्रसूताओं को हो रही परेशानियों से राहत दिलाया। अब नई बिल्डिंग मेें बच्चा वार्ड व एसएनसीयू का शिफ्ट होना विशेष जरूरी माना जा रहा है क्योंकि प्रसूताएं नई बिल्डिंग में नवजात को जन्म दे रही हैं। दिक्कतें महसूस होने पर नवजात को इलाज के लिए पुराने भवन में भेजा जाता है। इससे स्थिति यह बन रही है कि प्रसूताओं की परेशानी पहले जैसे ही बनी है।

...ताकि मातृ व शिशु मृत्यु दर में आए कमी
बतादें कि स्वास्थ्य महकमा भी यह स्वीकार करता है कि जिले में मातृ व शिशु मत्यु दर के आंकड़ें चौकाने वाले हैं। इससे न केवल विभाग चिंतित है, बल्कि उच्च अधिकारी इसे जिम्मेदार अफसरों की लापरवाही मानते हैं। ऐसी स्थिति में स्वास्थ्य विभाग की मंशा है कि बच्चा वार्ड व एसएनसीयू को नई बिल्डिंग में शिफ्ट कर दिया जाएगा तो मातृ व शिशु मृत्यु दर में कमी आएगी और बेहतर सुविधाएं मिलने की संभावना रहेगी।

मरीजों की दूर हों परेशानियां
स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि मरीजों को कोई परेशानी न हो। इसके लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है। नई बिल्डिंग में जैसे-जैसे व्यवस्था बनती जाएगी। ठीक वैसे ही पुराने भवन से अलग-अलग विभाग नए भवन में शिफ्ट करते जाएंगे। वर्तामान में ओपीडी, आईपीडी, ओटी सब कुछ नए बिल्डिंग में शिफ्ट हो गया है। इसकी सुविधाएं मरीजों को दी जा रही हैं। इससे उन्हें पहले से राहत मिली है।

आला अधिकारियों ने लिया संज्ञान
सिविल सर्जन ने बताया कि बच्चा वार्ड व एसएनसीयू को नए भवन में शिफ्ट करने की कवायद में स्वास्थ्य महकमा जुटा है। इसके लिए जिले के आला अधिकारियों ने भी कार्य को तेजी से पूरा करने को लेकर संबंधित निर्माण एजेंसी को निर्देश दे दिया है। अब उम्मीद है कि बहुत जल्द बच्चा वार्ड को नई बिल्डिंग में शिफ्ट कर दिया जाएगा।

वर्जन:-
उच्च अधिकारी का जैसा मार्गदर्शन मिलेगा उसका पालन करेंगे। फिलहाल अभी बच्चा वार्ड व एसएनसीयू को शिफ्ट करने को प्लानिंग की जा रही है। कोशिश है कि बच्चा वार्ड को जल्द ही शिफ्ट किया जाएगा।
डॉ. एनके जैन, सिविल सर्जन जिला अस्पताल।

[MORE_ADVERTISE1]