स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दबंगों के निशाने पर सरकारी भूमि, परियोजनाओं की जमीन पर अतिक्रमण

Amit Pandey

Publish: Jan 28, 2020 13:15 PM | Updated: Jan 28, 2020 13:15 PM

Singrauli

दुद्धीचुआ क्षेत्र में बढ़ रही शिकायत...

सिंगरौली. जिला मुख्यालय के नगरीय क्षेत्र में खाली सरकारी भूमि पर दबंगों की निगाहें लगी हैं। हालत यह है कि दबंग और उनके साथी एेसी सरकारी भूमि पर मौका मिलते ही काबिज हो जाते हैं या अतिक्रमण कर उसे घेर लिया जाता है। बीते कुछ समय से दुद्धीचुआ परियोजना क्षेत्र में कंपनी की खाली पड़ी शासकीय भूमि को लेकर एेसी घटनाएं बढ़ रही हैं। शिकायत है कि वहांं एेसे कई समूह सक्रिय हैं जो परियोजना की खाली भूमि को हथियाने में लगे हैं। इसके चलते इस परियोजना क्षेत्र में अतिक्रमण की संख्या लगातार बढ़ रही है मगर परियोजना प्रबंधन के इस समस्या को लेकर लापरवाह होने की बात कही जा रही है।

शिकायत है कि दुद्धीचुआ परियोजना क्षेत्र में खाली सरकारी भूमि पर कुछ माह से लगातार अतिक्रमण हो रहे हैं। इनमें से कुछ जगह तो अब पक्का निर्माण तक हो जाने की शिकायत है। ताजा मामला वहां परियोजना क्षेत्र में नर्सरी के लिए आरक्षित भूमि से जुड़ा है। शिकायत है कि कुछ माह से नर्सरी की जमीन में लगे कुछ पौधे काट दिए गए और इसके बाद उस भूमि पर अतिक्रमण कर लिया गया। बताया गया कि मात्र तीन-चार माह में ही इस जमीन पर लगभग 70 अतिक्रमण कर लिए गए हैं। इनमें से कुछ जगह पहले कच्चा अतिक्रमण किया गया मगर अब उसने पक्के निर्माण का रूप ले लिया है। वहां नर्सरी की शेष भूमि पर भी दबंग अतिक्रमणकारी समूह की नजर है। शिकायत है कि परियोजना का सुरक्षा विभाग व प्रबंधन इस पूरे मामले को लेकर लापरवाह नजरिया अपनाए है।

बताया गया कि किसी मामले में प्रबंधन व सुरक्षा विभाग के स्तर पर दिखावे के लिए नोटिस देने या निर्माण का छोटा सा हिस्सा ढहा देने जैसी कार्रवाई की जाती है ताकि अतिक्रमणकारी को अधिक नुकसान नहीं हो। शिकायत है कि इस काम में परियोजना से जुड़े कुछ लोग भी शामिल हैं। इसलिए किसी भी प्रस्तावित कार्रवाई की अतिक्रमणकारियों को पूर्व सूचना मिल जाती है तथा एेसे लोग प्रबंधन या सुरक्षा विभाग के लोगों से सांठगांठ कर अपना बचाव कर लेते हैं। इस प्रकार परियोजना की काफी कीमती भूमि अतिक्रमण की चपेट में चली गई तथा यह सिलसिला लगातार जारी है।

[MORE_ADVERTISE1]