स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिल्ली के दूतों ने मोबाइल फोन पर शुरू की शहर में स्वच्छता की पड़ताल

Ajit Shukla

Publish: Jan 14, 2020 23:00 PM | Updated: Jan 14, 2020 23:00 PM

Singrauli

स्वच्छता सर्वेक्षण का नया तरीका.....

सिंगरौली. शहर के बिलौंजी निवासी अनुज सिंह के पास सुबह ही उनके मोबाइल फोन पर एक कॉल आई। कॉल दिल्ली से थी। नमस्कार करने के बाद अनुज से कॉल करने वाले शख्स ने सीधे प्रश्न किया कि क्या आप जानते हैं कि आपका शहर स्वच्छता सर्वेक्षण में भाग ले रहा है। इसके अलावा उनसे एक के बाद एक करके कई प्रश्न पूछे गए। दिल्ली से आई कॉल को रिसीव करने वाले अनुज सिंह इकलौते नहीं है। इसी प्रकार दो दर्जन से अधिक लोगों के पास टीम की कॉल आई है।

दरअसल स्वच्छता सर्वेक्षण में अब की बार दिल्ली की टीम ने यहां शहर में साफ-सफाईकी पड़ताल के लिए नया तरीका अपनाया है। टीम ने यहां पहुंचने से पहले ही स्वच्छता को लेकर मोबाइल फोन पर सर्वे शुरू कर दिया है। महज एक दिन में दो दर्जन लोगों के पास कॉल आने की बात की जा रही है। सर्वेक्षण के मद्देनजर लोगों के पास कॉल आ रही है। इस बात को नगर निगम अधिकारियों ने भी स्वीकार किया है। अधिकारी इसे सर्वे का नया तरीका बता रहे हैं।

खुद नगर निगम आयुक्त शिवेंद्र सिंह ने सर्वेक्षण के मद्देनजर मोबाइल फोन पर पड़ताल शुरू होने की बात स्वीकार की है। उनका कहना है कि उन्हें कईलोगों से जानकारी मिली है।निगम आयुक्त ने लोगों से फोन पर प्रश्नों के सकारात्मक जवाब देने की अपील भी की है। उनका कहना है कि मोबाइल फोन पर दिए जाने वाले जवाब सर्वेक्षण के मद्देनजर काफी मायने रखते हैं।

मोबाइल पर पूछे जा रहे सात सवाल
शहर के रहवासियों को आने वाले फोन से सात सवाल पूछे जा रहे हैं। इनमें पहला सवाल क्या आप जानते हैं कि आपका शहर स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में भागीदारी कर रहा है। दूसरा सवाल आप शहर में अपने आसपास की स्वच्छता को अपने पिछले छह महीने के अनुभव के आधार पर 200 में से कितने अंक देना चाहेंगे। तीसरा सवाल आप शहर में सार्वजनिक और व्यवसायिक क्षेत्र की स्वच्छता को अपने पिछले छह महीने के अनुभव के आधार पर 200 में से कितना अंक देना चाहेंगे।

चौथा सवाल क्या आप से हमेशा कचरा संग्राहक द्वारा सूखा गीला कचरा अलग अलग देने के लिए कहा जाता है। इसी तरह से पाचवें सवाल में पूछा जा रहा है कि क्या आपके शहर में सडक़ों के डिवाइडर पर पौधों या हरी घास से ढके हुए हैं। छठा सवाल शहर में सार्वजनिक शौचालयों की स्वच्छता को 200 में कितने अंक देना चाहेंगे। इसी प्रकार सातवां सवाल होता है कि शहर के ओडीएफ अर्थात खुले में शौच से मुक्त या जीएफसी अर्थात कचरा मुक्त शहर स्टेटस के बारे में क्या जानकारी है।

टीम का निरीक्षण पूरी तरह से होगा गोपनीय
अधिकारियों के मुताबिक स्वच्छता सर्वेक्षण के मद्देनजर आने वाली टीम का सर्वे पूरी तरह से गोपनीय होगा।टीम कब आएगी और कहां निरीक्षण करेगी। नगर निगम अधिकारियों को इसकी जानकारी नहीं दी जाएगी। यही वजह है कि अधिकारी यह बात पाने की स्थिति में नहीं हैं कि टीम शहर में आ गई है या फिर बाहर से ही लोगों को मोबाइल पर फीडबैक ले रही है। मोबाइल पर फीडबैक लिए जाने की जानकारी निगम को ऑनलाइन फीडबैक के डाटा से प्राप्त हुआ है। इसके लिए एक शख्स ने निगम को मोबाइल पर फोन आने की जानकारी भी दी है।

[MORE_ADVERTISE1]