स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मोरवा से चितरंगी तेज रफ्तार में जा रही थी यात्री बस, फिर गोनर्रा में ऐसा हुआ कि जानकर उड़ जाएंगे होश

Amit Pandey

Publish: Jan 22, 2020 14:28 PM | Updated: Jan 22, 2020 14:28 PM

Singrauli

मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को भेजा अस्पताल....

सिंगरौली. बरगवां थाना क्षेत्र के गोनर्रा में तेज रफ्तार यात्री बस अनियंत्रित होकर पलट गई। जिसमें सवार दर्जनभर यात्री घायल हुए हैं। घटना के बाद मौके पर कोहराम मच गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने आनन-फानन में घायलों को उपचार के लिए अस्पताल भेज दिया है। वहीं बस चालक मौके से फरार हो गया। लापरवाह बस चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

जानकारी के मुताबिक मंगलवार की शाम मोरवा से चितरंगी जा रही वर्मा बस क्रमांक एमपी 66 पी 0160 गोनर्रा के बाद नवानगर छुहिया घाटी पर अनियंत्रित होकर पलट गई। जिसमें सवार हंशलाल सिंह पिता जगमोहन निवासी पिड़रिया, सुनीता पति रणजीत निवासी डाला, कलावती पिता अमृतलाल निवासी डाला, पानमती पिता जयलाल निवासी डाला, बसंतालाल बैगा पिता मटर बैगा निवासी सुंदर, बिहारी लाल बैगा पिता रसीले बैगा निवासी भितरी सहित दुर्घटना में आधा दर्जन अन्य घायलों को उपचार के लिए पुलिस ने अस्पताल पहुंचाया है। जहां सभी घायलों का इलाज चल रहा है। मौके से बस चालक व परिचालक फरार हैं। लापरवाह चालक व परिचालक के खिलाफ मामला दर्ज कर पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

घटनास्थल पर चीख पुकार
मंगलवार की शाम करीब 7 बजे जब अचानक बस अनियंत्रित होकर पलट गई तो बस में सवार यात्रियों को कुछ समझ ही नहीं आया कि यह क्या होगा। बस पलटने के बाद बस में सवार यात्री बौखलाए और चीख पुकार शुरू कर दिया। आसपास के लोगों ने बस को पलटते हुए देख मौके पर पहुंचे। जहां बस के अंदर से घायलों को बाहर निकालने लगे। वहीं घटना की सूचना पुलिस को दे दिया। इस दौरान छुहिया घाटी पर कोहराम मच गया था।

नहीं पहुंची एंबुलेंस
घायलों को अस्पताल पहुंचाने के लिए एंबुलेंस को भी सूचना दिया गया था लेकिन काफी देर हो जाने के बाद भी एंबुलेंस मौके पर नहीं पहुंचा। इसके बाद पुलिस ने डायल 100 में घायलों को अस्पताल पहुंचाया। वहीं कुछ घायलों को पुलिस के बोलेरो वाहन की मदद से इलाज के लिए भेजा गया। इधर, अस्पताल पहुंचने के घंटों बाद घायलों को उपचार नसीब हुआ। डॉक्टरों के नहीं होने से घायल अस्पताल में कराहते रहे।

[MORE_ADVERTISE1]