स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO: गैंगरेप का 7 साल बाद भी दर्द झेल रही दामिनी, दवाओं के लिए मां साफ कर रही बर्तन

Naveen Parmuwal

Publish: Dec 06, 2019 08:30 AM | Updated: Dec 05, 2019 19:24 PM

Sikar

Story of Sikar Rape Victim Damini : 18 साल की दामिनी। सात साल तक कोर्ट में इंसाफ के लिए लड़ाई लड़ी। 11 साल की उम्र में दरिंदों ( Raped With 11 Year Old Girl ) ने ऐसा जख्म दिया है कि अब कभी भर नहीं सकता है।

सीकर।
Story of Sikar rape Victim Damini : 18 साल की दामिनी। सात साल तक कोर्ट में इंसाफ के लिए लड़ाई लड़ी। 11 साल की उम्र में दरिंदों ( Raped With 11 Year Old Girl ) ने ऐसा जख्म दिया है कि अब कभी भर नहीं सकता है। राजस्थान पत्रिका से बातचीत में उसने कहा कि आरोपियों को उम्रकैद की सजा ( Life Sentence to Rape Accused ) तो मिल गई, लेकिन अब भी वो दर्द झेल रही है। वो सम्मान उसे अभी भी नहीं मिल सका है। आखों में उसका दर्द साफ झलक रहा था। सात साल पहले ईद के दिन सिनेमा हॉल में फिल्म देख कर बहनों के साथ लौट रही थी। अपहरण कर ले गए। चार युवकों ने गैंगरेप किया। दामिनी ने कहा कि सात साल बाद भी तबीयत ठीक नहीं रहती है। कोई काम नहीं कर सकती है। पेट में काफी दर्द रहता है। दामिनी ( sikar damini ) बोली मां घरों में झाड़ू पोछा करती है। बर्तन साफ करती है। चार बहनें व एक भाई है। भाई गांव में रहता है। उसने कहा कि मां के साथ अकेली रहती है।

Rape in Sikar : सरकार की ओर से भी मदद नहीं मिली है। आज भी रेन बसेरे में रहने को मजबूर है। तब तो काफी लोगों ने मदद का आश्वासन दिया था। अलवर में दुष्कर्म की घटना के बाद सरकार ने दुष्कर्म पीडि़ता के लिए नौकरी देने की बात कहीं थी। उसने एसपी आफिस में जाकर पुलिस में नौकरी के लिए भी आवेदन किया था। कलक्टर साहब ने मना कर दिया मैं नौकरी नहीं दे सकता हूं। दामिनी की मां अभी भी प्रशासन के पास मदद के लिए चक्कर लगाती रहती है।

Read More :

दास्तां: जिसे कहती थी 'भाई' उसने ही बनाया हवस का शिकार, 'कामिनी' को आज भी डराती है वो काली रात

घटना का दिन: 20 अगस्त 2012

ईद के दिन 11 साल की दामिनी बहनों के साथ मॉल से फिल्म देख कर ऑटो से डिपो के पास आई। वहां से पैदल ही घर लौट कर आ रही थी। शांतिनगर में पीछे से एक जीप आ गई। उसमें बैठे सुरेश और रमेश ने हाथ पकड़ कर उसे जीप में खींच लिया। तेजी से जीप को भगा कर ले गए। दोनों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। रात को परिचित के घर पर दोनों चले गए। वहां से पांच सौ रुपए लिए और टी शर्ट लेकर चले गए। रिपोर्ट दर्ज होने के बाद पुलिस ने उनकी तलाश शुरू की। दोनों दुष्कर्म के बाद सुनसान रास्ते में पटक गए। पुलिस ने दामिनी को इलाज के लिए भर्ती कराया। दोनों को गिरफ्तार किया। उनके रिश्तेदारों को भी पकड़ा गया। गवाहों के आधार पर कोर्ट ने आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई।

Read More :

राजस्थान: हर रोज इतनी महिलाओं से छेड़छाड़ व बलात्कार, सवाल- आखिर कब तक ?

[MORE_ADVERTISE1]