स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजस्थान में यहांं दिखाई दिए भयंकर टोरनाडो तुफान के बादल

Sachin Mathur

Publish: Dec 06, 2019 12:08 PM | Updated: Dec 06, 2019 12:08 PM

Sikar

सीकर. शहर में गुरुवार को बादलों की यह बेहद दुर्लभ तस्वीर सामने आई। इस आकार के बादल अंग्रेजी में क्यूम्यलोनिम्बस क्लाउड कहलाते हैं।

सीकर. शहर में गुरुवार को बादलों की यह बेहद दुर्लभ तस्वीर सामने आई। इस आकार के बादल अंग्रेजी में क्यूम्यलोनिम्बस क्लाउड कहलाते हैं। जो लंबे समय तक रहने पर टोरनाडो जैसे भयंकर तुफान ला सकते हैं। जिसमें बड़े बड़े भवन तक ताश के पत्तों की तरह ढह जाते हैं। यह बादल जलवाष्प लिए होते हैं, जो नम या गर्म हवा के मजबूत दबाव की वजह से ऊपर से नीचे रेखा के रूप में बनते हैं। एक्सपर्ट के मुताबिक ऐसे बादलों में पानी की मात्रा और बिजली दोनों ज्यादा होती है। जो बरसात के साथ बिजली गिरने की संभावना भी बताते है। हालांकि मौसम में कितना बदलाव होगा यह जमीन से बादलों की ऊंचाई तय करती है। लेकिन, बेहद दुर्लभ माने जाने वाले क्यूम्यलोनिम्बस बादलों की यह तस्वीर भी अंचल में मौसम परिवर्तन का संकेत दे रही है। यह तस्वीर पत्रिका को राजश्री रोड निवासी शिक्षक दीपक माथुर ने भेजी है। एक्सपर्ट व्यू: खतरनाक होते हैं यह बादलक्यूम्यलोनिम्बस प्रकार के यह बादल तुफानी, खड़े या दर्दनाक बादल कहलाते हैं। यह बादल बहुत कम देखने को मिलते हैं। जल वाष्प लिए यह बादल मौसम में बारिश की संभावना बताते हैं। इनमें तड़क चालित बिजली का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। यदि लंबे समय तक आकाश में ऐसे बादल होते हैं तो यह टोरनाडो जैसे भयंकर तुफान बनाने में भी सक्षम है। ऐसे में यह बादल खतरनाक माने जाते हैं।मुकेश निठारवाल, भूगोल व्याख्याता,राउमावि भारणी, सीकर

[MORE_ADVERTISE1]