स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO: बलात्कार और हत्याओं के विरोध में आज सीकर बंद, 16 स्थानों पर पुलिस जाप्ता मौजूद

Naveen Parmuwal

Publish: Dec 05, 2019 10:32 AM | Updated: Dec 05, 2019 10:32 AM

Sikar

Sikar Band Today : देश में बलात्कार और निर्मम हत्याओं ( Protest Against Rape And Murdered Case ) के विरोध में सर्व समाज की ओर से आज सीकर बंद किया गया है। बंद को सीकर के व्यापार संगठनों ने समर्थन दिया है।

सीकर.
Sikar band Today : देश में बलात्कार और निर्मम हत्याओं ( protest Against Rape And Murdered Case ) के विरोध में सर्व समाज की ओर से आज सीकर बंद किया गया है। बंद को सीकर के व्यापार संगठनों ने समर्थन दिया है। बंद के दौरान सुबह दस बजे जाट बाजार से आक्रोश रैली निकालकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री व राज्यपाल के नाम जिला कलक्टर को ज्ञापन दिया जाएगा। रैली के लिए भीड़ जुटना शुरू हो गई है। बंद समर्थक रैली के रूप में नारेबाजी कर खुली दुकानों को बंद करवा रहे है। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस के कड़े इंतजाम किए गए हैं। शहर के प्रमुख स्थानों पर सुबह से पुलिस जाप्ता तैनात रहेगा। स्वदेश शर्मा ने बताया कि बंद हैदराबाद व टोंक की वारदात में प्रतिदिन सुनवाई कर अपराधियों को फांसी की मांग को लेकर किया जा रहा है। भीम सेना ने कलक्टर के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा है।

इनका समर्थन...
बंद को व्यापार महासंघ, सीकर जिला संयुक्त व्यापार महासंघ, सीकर व्यापार संघ, बीज व्यापार संघ, कृषि मंडी व्यापार संघ, अखिल भारतवर्षीय जाट महासभा संगठनों ने समर्थन दिया है।

Read More :

राजस्थान: पास करने लिए महिला इंस्पेक्टर ने मांगी 70 हजार की रिश्वत, एसीबी ने रंगे हाथ दबोचा

[MORE_ADVERTISE1]VIDEO: बलात्कार और हत्याओं के विरोध में आज सीकर बंद, 16 स्थानों पर पुलिस जाप्ता मौजूद[MORE_ADVERTISE2]

16 स्थानों पर जाप्ता
शहर के जाट बाजार, तापडिय़ा बगीची, पुराना अजमेर बस स्टैंड, कल्याण सर्किल, सालासर बस स्टैंड, रोडवेज बस डिपो तिराहा समेत प्रमुख 16 स्थानों पर सुबह से ही पुलिस जाप्ता तैनात रहेगा।

खुले स्कूल
निजी शिक्षण संस्थान संघ के सदस्य जोगेन्द्र सुंडा ने बताया कि इस घटना ने पूरे समाज को शर्मसार किया है, हमारी भी संवेदना जुड़ी है। इस तरह के कृत्य करने वालों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए। बंद के दौरान सीकर जिले के सभी निजी स्कूल खुले हैं।

Read More :

दास्तां: जिसे कहती थी 'भाई' उसने ही बनाया हवस का शिकार, 'कामिनी' को आज भी डराती है वो काली रात

[MORE_ADVERTISE3]