स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नोडल एजेंसी तय नहीं, कैसे मिलेगी किसानों को पेंशन

Vinod Singh Chouhan

Publish: Sep 11, 2019 17:53 PM | Updated: Sep 11, 2019 17:53 PM

Sikar

स्वैच्छिक योजना से जुड़ सकेंगे किसान

मानधन योजना के तहत जिले में किसानों को पेंशन के रूप में मिल सकेंगे तीन हजार रुपए

सीकर. केन्द्र सरकार ने भले किसानों को वृद्धावस्था पेंशन देने की प्रधानमंत्री मानधन योजना शुरू की हो लेकिन जिले में अभी तक प्रशासन यह तय नहीं कर पाया है कि योजना का नोडल अधिकारी कौन होगा। ऐसे में जिम्मेदारों की ढिलाई के कारण किसानों को योजना का लाभ मिल पाना दूर की कौड़ी नजर आ रहा है। योजना की खास बात यह है कि जितनी अंशराशि का भुगतान किसान करेगी उतनी ही अंश राशि केन्द्र सरकार की ओर से पेंशन खाते में जाएगी। योजना के तहत पेंशन का भुगतान भी समयावधि पूरी होने पर आवेदन पंजीकृत कराने की तिथि के अनुसार ही हर माह दिया जाएगा। गौरतलब है कि योजना का आगाज नौ अगस्त को किया गया था।
लगाने होंगे शिविर
जिले में पौने चार लाख से ज्यादा किसान है। ऐसे में सभी किसानों तक योजना का लाभ पहुंचे इसके लिए जिला प्रशासन को नोडल एजेंसी बनानी होगी। जिससे योजना के तहत शिविर लगाकर किसानों को लाभान्वित किया जा सके।
सीकर केन्द्रीय सहकारी बैंक के एमडी बीएल मीणा ने बताया कि योजना के पात्र व्यक्ति ग्राम पंचायत के सेवा केन्द्र पर आधार कार्ड, बैंक पासबुक व लघु व सीमांत कृषक का प्रमाण पत्र ले जाकर पंजीयन करवा सकते है। पंजीयन के साथ प्रथम अंशदान राशि का भुगतान नकद़ करना होगा। इसके बाद अंशदान राशि की कटौती बैंक खाते से होने लगेगी।
यह है शर्ते
लघु एवं सीमांत किसान स्वैच्छिक व अंशदायी पेंशन स्कीम के लिए पात्रता तय की गई है। जिसके अनुसार 18 से 40 वर्ष की आयु वाला कोई भी किसान आवेदन कर सकता है। इसके लिए किसान को आयु के अनुसार 55 से 200 रुपए प्रति माह की किश्त जमा करानी होगी। इसके अलावा किश्त की राशि का भुगतान तिमाही या छमाही के अनुसार भी किया जा सकेगा।