स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Watch: दीपावली से पहले फूटा व्यापारियों का गुस्सा, सड़क जाम कर किया प्रदर्शन

Naveen Parmuwal

Publish: Oct 21, 2019 16:43 PM | Updated: Oct 21, 2019 16:52 PM

Sikar

शहर के मुख्य मार्ग स्टेशन रोड़ पर जर्जर सडक़े और दिनभर उड़ती धूल से परेशान व्यापारियों ( Merchants Protest for Damage Road ) का सब्र का बांध आज टूट पड़ा। यहां व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद कर सडक़ को जाम कर दिया।

सीकर.
शहर के मुख्य मार्ग स्टेशन रोड़ पर जर्जर सडक़े और दिनभर उड़ती धूल से परेशान व्यापारियों ( Merchants Protest for Damage Road ) का सब्र का बांध आज टूट पड़ा। यहां व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद कर सडक़ को जाम कर दिया। जिससे आवागमन पूरी तरह से बाधित रहा। इस दौरान व्यापारियों ने नगर परिषद ( Sikar City Council ) के खिलाफ जमकर आक्रोश जताया। व्यापारियों का कहना है कि काफी दिन पहले सिवरेज की खुदाई के लिए सडक़ों को खोद दिया गया। लेकिन अभी तक उनकी मरम्मत नहीं की गई। जिस वजह से दिनभर धूल उड़ती रहती है। शहर में सबसे व्यस्त बाजार कल्याण सर्किल से लेकर सुभाष चौक तक सडक़ों को तोडकऱ छोड़ दिया गया। दीपावली को देखते हुए लाखों लोग यहां खरीददारी करने आते है। स्थिति ऐसी है कि व्यापारियों को बैठना भी दुर्भर हो गया है। व्यापारियों का आरोप है कि बार-बार कहने पर भी अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे है। उन्होंने साफ चेताया है कि अगर दिपावली से पहले सडक़ों की मरम्मत नहीं हुई तो नतीजा आने वाले निकाय चुनाव में भुगतना होगा।

तीन दिन का आश्वासन
सडक़ जाम की सूचना पर आयुक्त श्रवण विश्रोई मौके पर पहुंचे और व्यापारियों को समझाइश कर मामला शांत करवाया। उन्होंने तीन दिन में क्षतिग्रस्त सडक़ को दुर्रस्त करने का आश्वासन दिया।

Read More :

दिवाली की छुट्टी पर डेढ़ माह की बेटी से मिलकर लौट रहे पिता की सड़क हादसे मौत

मीटिंग में भी उठा था टूटी सडक़ें और सफाई का मुद्दा
गौरतलब है कि इन दिनों शहर की हर सडक़ टूटी पड़ी है। राधाकिशनपुरा, फतेहपुर रोड़, स्टेशन रोड़, सुभाष चौक सहित शहर के प्रमुख मार्गों को सिवरेज की खुदाई के बाद मिट्टी डालकर बंद कर दिया गया। जिस कारण दिनभर वाहनों की आवाजाही से धूल का गुबार छाया रहता है। इससे पहले नगर परिषद के नए भवन हुई मीटिंग में भी जर्जर सडक़ों सहित सफाई को लेकर पर्षादों ने जमकर हंगामा किया था। उस दौरान सभापति जीवण खां ने तीन दिन में सफाई का आश्वासन देकर मामला शांत करवाया। लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है।