स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

निकाय चुनाव: 1.61 लाख मतदाता चुनेंगे 65 पार्षद, इस बार ये नहीं लड़ सकेंगे चुनाव

Naveen Parmuwal

Publish: Oct 22, 2019 11:30 AM | Updated: Oct 22, 2019 11:30 AM

Sikar

नगर परिषद ( Sikar City Council ) क्षेत्र परिसीमन के बाद एक लाख 61 हजार 825 मतदाता 65 पार्षदों के लिए मतदान ( Voting for Local Body Election ) करेंगे। सोमवार को राज्य निर्वाचन आयोग ( State Election Commission ) ने मतदाताओं की अंतिम सूची जारी कर दी।

सीकर.

नगर परिषद ( Sikar City Council ) क्षेत्र परिसीमन के बाद एक लाख 61 हजार 825 मतदाता 65 पार्षदों के लिए मतदान ( Voting for Local Body Election ) करेंगे। सोमवार को राज्य निर्वाचन आयोग ( State Election Commission ) ने मतदाताओं की अंतिम सूची जारी कर दी। सीकर में 84986 पुरुष और 76838 महिला मतदाता हैं। आयोग के दिशा-निर्देश के तहत दो से अधिक संतान वाले चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। इवीएम से मतदान कराया जाएगा। इधर, प्रदेश में 49 निकायों में चुनाव होंगे। इन निकायों में 2105 पार्षदों के लिए चुनाव लड़ा जाएगा। भविष्य का फैसला 32.99 लाख मतदाता करेंगे। 2105 वार्डों में प्रदेशभर में चुनाव लड़ा जाएगा। जिसके लिए 32.99 लाख मतदाता वोट करेंगे। जिसके लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने तैयारी कर ली है।


08 निकायों (शेखावाटी) में 04,37,489 कुल मतदाता 340 वार्डों में मतदान करेंगे।
03 निकायों (सीकर जिले) के 120 कुल वार्डों में 01,98,348 मतदाता भाग्य तय करेंगे।
सीकर जिले के लिए निकाय चुनाव की जारी मतदाता सूची में महिला व पुरुषों के अलावा एक मतदाता थर्ड जेंडर भी है। प्रदेश में होने वाले चुनाव में 47 थर्ड जेंडर मतदान करेंगे।


शेखावाटी में तस्वीर...
निकाय वार्ड पुरुष मतदाता महिला मतदाता कुल मतदाता
सीकर 65 84986 76838 161825
नीमकाथाना 35 14186 12768 26954
खाटूश्यामजी 20 4929 4640 9569
बिसाऊ 25 9083 8356 17439
झुंझुनूं 60 38185 35035 73220
पिलानी 35 11821 11339 23160
चूरू 60 43949 41265 85214
राजगढ़ 40 20742 19366 40108


पोस्टर लगे, टिकट के लिए भागदौड़
सीकर जिला मुख्यालय पर आगामी नगर परिषद चुनाव की सरगर्मी तेज हो गई है। जगह-जगह दीवारों पर दावेदारों ने पोस्टर चिपका दिए हैं। कई दावेदारों ने पार्टी चुनाव चिह्न के साथ पोस्टर लगा दिए हैं। सत्तारूढ़ दल भाजपा में टिकट के लिए दावेदारों की संख्या ज्यादा नजर आ रही है। ऐसे में खींचतान होने की आशंका है। सोमवार को एक जनप्रतिनिधि के निवास पर कार्यक्रम में भी दावेदारों ने पूरा जोर लगाया था। इधर, कांग्रेस शहरी क्षेत्र में भी जीत हासिल कर वापसी करने में पूरा जोर लगा रही है। यहां भी टिकटों के लिए मारामारी है। प्रदेश अध्यक्ष से जुड़ाव होने के कारण दावेदार प्रदेश कार्यालय तक हाथ-पैर मार रहे हैं। उधर चुनाव पर तस्वीर साफ होने के बाद गली मोहल्लों में लोग पार्षद के लिए उम्मीवारों के नाम पर चर्चा करने लगे हैं।