स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हत्या के 11 साल बाद कोर्ट ने दोषी माना, अब मिलेगी सजा

Vikram Singh Solanki

Publish: Nov 11, 2019 21:19 PM | Updated: Nov 11, 2019 21:19 PM

Sikar

11 साल बाद हत्या के मामले में दो दिन बाद एससीएसटी कोर्ट अहम फैसला सुनाएगी। कोर्ट ने सोमवार को आरोपी को हत्या में दोषी मानते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया है। दो दिन बाद कोर्ट फैसला सुनाएगी।

सीकर. 11 साल बाद हत्या के मामले में दो दिन बाद एससीएसटी कोर्ट अहम फैसला सुनाएगी। कोर्ट ने सोमवार को आरोपी को हत्या में दोषी मानते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया है। दो दिन बाद कोर्ट फैसला सुनाएगी। अपर लोक अभियोजक गोपाल सिंह बिजारणियां ने बताया कि विशिष्ट न्यायाधीश सुनील बिश्नोई के समक्ष आरोपी मनीराम को पेश किया गया। कोर्ट ने अहम साक्ष्यों को देखते हुए हत्या का आरोपी माना। इसके बाद कोर्ट ने दो दिन बाद फैसला सुनाने के लिए कहा। उन्होंने बताया कि मुख्य आरोपी मनीराम गुर्जर पुत्र भूराराम निवासी चबूतरा की ढाणी गावंली पाटन का रहने वाला है। इसके साथ दो अन्य आरोपी भी शामिल थे। उन्हें कोर्ट ने हत्या के आरोपों से बरी कर दिया। उन्होंने बताया कि 29 मई 2008 को शंकरलाल मीणा पुत्र नानगराम निवासी गावंली पाटन खेत में काम कर रहा था। तभी जीप लेकर मनीराम आ गया। वह उसके खेत से जीप निकाल कर जाने लगा तो शंकरलाल ने मना कर दिया। इस पर मनीराम ने उसे जातिसूचक टिप्पणी करते हुए तुझे बहुत दिन हो गए, आज जिंदा नहीं छोडूंगा। इसके बाद उसने जीप शंकर पर चढ़ा दी। वह जीप नीमकाथाना की ओर लेकर फरार हो गए। शंकरलाल को परिजन इलाज के लिए नीमकाथाना ले गए। वहां से उसे जयपुर रेफर कर दिया। रास्ते में उसकी मौत हो गई। उसके बाद पुलिस ने आरोपी मनीराम को गिरफ्तार कर लिया।

[MORE_ADVERTISE1]