स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

छात्रसंघ चुनाव को लेकर ‘गुणा-भाग’ शुरू

Gaurav Saxena

Publish: Aug 20, 2019 18:25 PM | Updated: Aug 20, 2019 18:25 PM

Sikar

सीकर के सरकारी कॉलेजों में से कन्या कॉलेज से सबसे ज्यादा मत हैं। छात्र संगठन आकड़ों के लेकर अपने-अपने गणित में लग गए हैं।

सीकर. सरकारी कॉलेजों में आयोजित छात्रसंघ चुनाव की मतदाता सूचियों के तहत कल्याण राजकीय कन्या महाविद्यालय में इस बार सबसे ज्यादा मतदान होगा। जिले के सभी सरकारी कॉलेजों ने मतदाता सूचियां जारी कर आपत्तियां मांग ली गई हैं। इन सूचियों का अंतिम प्रकाशन संशोधन के बाद मंगलवार को होगा। एबीवीपी व एसएफआई दोनों संगठनों ने कन्या कॉलेज में पैनल की घोषणा भी कर दी है। इसके साथ ही एसएफआई ने सोमवार को सबलपुरा स्थित विज्ञान महाविद्यालय का पैनल भी घोषित कर दिया है। जिसमें राकेश पूनियां को अध्यक्ष, सुहैल अहमद उपाध्यक्ष, सुनील कस्वां महासचिव एवं मनीषा पंवार का नाम संयुक्त सचिव पद पर घोषित किया हैं। इधर, एनएसयूआइ ने विधि महाविद्यालय में अध्यक्ष के बाद सोमवार को महासचिव पद पर रवि कुमार मीणा का नाम घोषित किया हैं।
एनएसयूआइ एवं डीएएसएफआइ का गठबंधन
भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआइ) व छात्रसंगठन डीएएसएफआई ने सोमवार को इंद्रा गांधी भवन कांग्रेस कार्यालय में संयुक्त बैठक की। बैठक में एनएसयूआइ के जिलाध्यक्ष सुधीर प्रताप ओला व डीएसएफआइ जिलाध्यक्ष महेश बारोठिया सहित दोनों संगठनों के छात्रनेता व कार्यकर्ताओं के बीच गठबंधन पर समझौता हुआ हैं।
छात्रसंघ चुनाव में इस बार जल्द ही दोनों संगठन कल्याण राजकीय कन्या महाविद्यालय को छोडकऱ सभी महाविद्यालयों में पूरी मजबूती के साथ संयुक्त पैनल घोषित करने का निर्णय करेंगे। कन्या कॉलेज में भी प्रभावी उम्मीदवार की तलाश है।
प्रचार में जुटी टीमें
छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी ने इस बार राजकीय विधि महाविद्यालय को छोडकऱ सभी कॉलेजों से तीन-तीन टीमें बनाई हैं। वहीं दूसरी ओर एसएफआई ने जिलेभर के सभी मार्गों पर 25 टीमों में बनाई हैं। यह टीमें कॉलेजों में अध्ययनरत विद्यार्थियों से घर-घर जाकर संपर्क कर रही हैं। एनएसयूआइ व डीएएसएफआइ का संयुक्त गठबंधन की चुनावी प्रचार टीमें मंगलवार सुबह मैदान में उतरेंगी।
शेष कॉलेजों में आज होंगे पैनल घोषित
एनएसयूआइ व डीएएसएफआइ के संयुक्त गठबंधन के बाद इस बार छात्रसंघ चुनाव का मुकाबला त्रिकोणिय नजर आ रहा है।
गौरतलब है कि तीनों ही संगठनों ने मंगलवार को शेष सभी सरकारी कॉलेजों में पैनल घोषित करने की तैयारी कर ली हैं।