स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पढ़ाई के डर से 10 साल के दो भाइयों ने सीरियल देख रची खौफनाक कहानी, एक ने खुद को ब्लेड से काटा

Naveen Parmuwal

Publish: Sep 22, 2019 15:22 PM | Updated: Sep 22, 2019 15:22 PM

Sikar

Children Made False Kidnap Story Due to Study : राजस्थान के सीकर जिले में पढ़ाई के डर से दो बच्चों ने अपनी जिंदगी दांव पर लगा दी। 10 वर्षीय दोनों रिश्ते में चचेरे भाई है।

सीकर।
राजस्थान के सीकर जिले में पढ़ाई के डर से दो बच्चों ने अपनी जिंदगी दांव पर लगा दी। 10 वर्षीय दोनों रिश्ते में चचेरे भाई है। पुलिस के अनुसार फतेहपुर रोड पर शनिवार दोपहर को दो बच्चों ( Children Made False Kidnap Story Due to Study ) ने मदरसे में जाने के डर से परिजनों को अपहरण की झूठी कहानी बना डाली। अपहरण मिलने की सूचना पर पुलिस प्रशासन तुरंत हरकत में आ गया। जांच के बाद पूरा मामला झूठा पाया गया तो पुलिस ने राहत की सांस ली। बच्चे ने बताया कि उन्हें मदरसे में कुरान का पाठ याद करने के लिए दिया गया था। डांट के डऱ के कारण से वह नहीं गए। अपहरण की सूचना मिलने पर एएसपी देवेंद्र कुमार भी मौके पर पहुंचे। फिलहाल किसी भी पक्ष की ओर से कोई मामला दर्ज नहीं कराया गया है। फतेहपुर रोड पर रियाज पुत्र रसीद निवासी अली नगर फतेहपुर रोड वार्ड नंबर 50 अपने दोस्त के साथ मदरसा जाने के लिए घर से निकला। उसने दुकान पर जाकर ब्लेड और एक बैंडेड खरीद लिया। बच्चे ने अपने हाथ की नस काट ली ( Child Cut Hand's Vein in Sikar ) और कुर्ते को भी फाड़ लिया।

यह भी पढ़ें: Watch: मैंने मेरी पत्नी को बहुत चाहा, सोचा सुधर जाएगी लेकिन वह नहीं मानी, ये मेरा आखिरी वीडियो है...

इसके बाद लहुलुहान अवस्था में वह दोस्त के साथ घर चला गया। उसने परिजनों के बताया कि दो आदमी आए थे और अपहरण करने का प्रयास किया। शोर मचाने पर वह भाग गए। इसके बाद परिजन बच्चे को अस्पताल में इलाज के लिए लेकर पहुंचे। इलाज के बाद बच्चे को घर भेज दिया गया। बच्चे के अपहरण की सूचना मिलने पर पुलिस के हाथपांव फूल गए। पुलिस की टीम फतेहपुर रोड पर पहुंची। पुलिस ने आसपास के लोगों से भी पूछताछ की। एएसपी देवेंद्र कुमार ने भी बच्चे से पूछताछ की तो उसने घटना की सच्चाई बताई।

यह भी पढ़ें: Watch: पत्नी बोली- मैड़म मेरे पति को टॉर्चर करती थी, खाना भी नहीं खाने देते थे, थाने का सिस्टम काफी गंदा है

सीरियल देखकर बनाई योजना
बच्चों ने सीरियल देखकर अपहरण की योजना बनाई थी। अपहरण को सच साबित करने के लिए एक बच्चे अपने हाथ की नसें काट ली। जब खून का बहना नहीं रुका तो दोनों घबरा गए और घर जाकर अपहरण की झूठी कहानी रच डाली। पुलिस की गहन पूछताछ में दोनों बच्चों ने राज उगल दिया।