स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रीवा की घटना के बाद जागा परिवहन विभाग

Manoj Kumar Pandey

Publish: Dec 07, 2019 20:14 PM | Updated: Dec 08, 2019 14:29 PM

Sidhi

सोनवर्षा टोल प्लाजा के पास लगाई गई चेकिंग, यात्री वाहनों की हुई जांच, जांच कार्रवाई में आरटीओ के साथ यातायात पुलिस भी रही मौजूद, 23 वाहनों के काटे गए चालान, 27 हजार राजस्व वसूली

सीधी। रीवा जिले के गुढ़ मे हुए भीषण सड़क हादसे में नौ लोगों की मौत के साथ ही दो दर्जन से अधिक लोगों के घायल हो जाने तथा उसी दिन सीधी जिले में यात्री बस पलटने से 40 लोगों को घायल होने से एक बार फिर जिला परिवहन विभाग की नींद खुल गई है। इन दो बड़े सड़क हादसों के बाद कमिश्रर रीवा के निर्देश पर जिला परिवहन अधिकारी कृतिका मोहटा सड़क पर उतरी और यातायात पुलिस के सहयोग से सीधी-रीवा राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-39 में सोनवर्षा टोल प्लाजा के पास चेकिंग लगाकर यात्री बसो की जांच की गई। इस दौरान विभिन्न कमियां मिलने पर करीब 23 वाहनों में चालानी कार्रवाई करते हुए 27 हजार रूपए की राजस्व वसूली की गई।
उल्लेखनीय है कि सीधी जिले में यात्री वाहनों की जांच को लेकर जिला परिवहन विभाग पूरी तरह से बेपरवाह बना हुआ है, परिवहन विभाग के अधिकारियों की सुस्ती का फायदा यहां के यात्री वाहन संचालक खूब उठा रहे हैं, जिसके चलते जिले से विभिन्न रूटो के लिए चलने वाले वाहन मानको की अनदेखी कर रहे हंै, जिसका परिणाम यह है कि सड़क हादसे बढ़ते जा रहे हैं। ये अलग बात है कि जब भी कोई बड़ा सड़क हादसा हो जाता है तो परिवहन विभाग की नींद टूट जाती है, और यात्री वाहनों की जांच कार्रवाई शुरू कर दी जाती है। इसी तारतम्य में रीवा जिले तथा सीधी जिले में गुरूवार को हुए दो बड़े सड़क हादसों के बाद शुक्रवार को जिला परिवहन विभाग की ओर से यात्री वाहनों की जांच शुरू कर दी गई। हलांकि यह जांच कार्रवाई महज एक या दो दिन में ही बंद कर दी जाएगी, इसके बाद फिर वाहन संचालकों द्वारा मनमानी शुरू कर दी जाएगी, यह तब तक जारी रहेगा, जब तक फिर कोई बड़ा सड़क हादसा नहीं हो जाता।
इन मानकों पर हुई जांच-
जिला परिवहन अधिकारी द्वारा चेकिंग के दौरान बस परमिट, कंडक्टर व ड्राइवर का लाइसेंस, फस्र्ट ऐड बॉक्स, अग्निशमन यंत्र, बीमा, फिटनेश, परमिट, नंबर प्लेट, आपातकालीन द्वार संबंधी सघन जांच की गई। जांच के दौरान कोई भी वाहन बिना परमिट के नहीं पाया गया और न ही कोई वाहन ओवरलोड मिला। वाहन चालको को ब्रेथ एनालाइजर अल्कोहल टेस्ट भी किया गया, जिस पर कोई भी वाहन चालक शराब पीकर वाहन चलाता हुआ नहीं पाया गया। लेकिन कुछ वाहनों की नंबर प्लेट विधि अनुरूप नहीं पाई गई, साथ ही जांच के अन्य बिंदुओं पर कार्रवाई करते हुए जुर्माना वसूला गया।
ढावों में लगाए गए जागरूकता बोर्ड-
जिला परिवहन अधिकारी द्वारा सड़क हादसों को रोंकने के लिए ढावों में जागरूकता बोर्ड लगाने की पहल भी शुरू की गई है। जिससे सड़क हादसों को लेकर चालक सावधान रहें और लापरवाही के चलते दुर्घटनाएं न हो। साथ ही वाहनों की ट्रालियों में रेडियम भी लगाया जा रहा है, जिससे रात में दूर से ही अन्य वाहनों का प्रकाश पड़ते ही जानकारी मिल सके। रेडियम पट्टी चिपकाने का कार्य यातायात पुलिस द्वारा किया जा रहा है।

[MORE_ADVERTISE1]