स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एक पंचायत ऐसी भी जहां एक दिन की ५०० रूपए वितरित की जा रही मजदूरी

Om Prakash Pathak

Publish: Oct 13, 2019 18:41 PM | Updated: Oct 13, 2019 18:41 PM

Sidhi

एक पंचायत ऐसी भी जहां एक दिन की ५०० रूपए वितरित की जा रही मजदूरी, मनरेगा मे १८२ रूपए की जगह रोजगार सहायक ने वितरित कर दिया ५०० रूपए की मनमानी, मामला कुशमी जनपद अंतर्गत ग्राम पंचायत गैवटा का

सीधी। मध्य प्रदेश ग्रामीण एवं पंचायत विभाग अंतर्गत मजदूरों को मजदूरी भुगतान करने हेतु कुछ निर्धारित दर तय किया गया है तथा एक महत्वाकांक्षी योजना रोजगार गारंटी योजना चलाई गई है जिसमें मजदूरो को मजदूरी मूल्यांकन के आधार पर दिया जाता है। देखा यह जा रहा है कि पंचायतो मे चल रहे रोजगार गारंटी के कार्यो पर मजदूरी भुगतान लगभग 1५० से १८२ तक ही बनती है या १८२ रूपए के अंदर ही श्रमिक के श्रम का मूल्यांकन करना है। किंतु जिले मे एक पंचायत ऐसी भी जहां मनरेगा मे निर्धारित मजदूरी के दर को दरकिनार कर थोक के भाव मे १८२ की जगह एक दिन की मजदूरी ५०० रूपए के दर से भुगतान किया गया है।
केंद्र सरकार की महत्वपूर्ण रोजगार गारंटी योजना दिन प्रतिदिन फेल हो रही है इसकी प्रमुख बजह जिम्मेदार अधिकारियो की नाकामी होती है जो कमीशन खाने के चक्कर मे सचिवो को खुली छूट दिए होते है और वो मनमर्जी से मजदूरी भुगतान करने मे तुल जाता है जिम्मेदार अधिकारियो द्वारा शायद सचिवो के रिकार्ड पर जरा भी गंभीरता दिखाई गई होती शायद इतना लंबा भ्रष्टाचार इस जनपद मे न होता। बता दे अधिकारियो के साथ-साथ उपयंत्री का भी दायित्व बनता है कि निर्माण कार्य चल रहा है तो काम करने वाले मजदूर कितने लगाए गए है मजदूरो को मजदूरी दर क्या बनती है मगर पदस्थ इंजीनियर यदि घर मे बैठकर एस्टीमेट, टीएस, एएस देगे और मूल्याकंन करेगे तो मजदूरी दरे शायद मनमौजी ही पंचायतो से निकलती रहेगी। कुसमी जनपद पंचायत के गैवटा पंचायत मे इस तरह की अनियमितता को अंजाम रोजगार सहायक के द्वारा दिया गया है। आदिवासी विकाश विभाग द्वारा स्वीकृत 5लाख जगदीश सिहं के घर के पास बनायी गई पुल मे मात्र 5 मजदूरो का कार्य करना दिखाकर चार मजदूरो के नाम पर 34 दिन काम करने का उल्लेख कर17 हजार प्रति व्यक्ति के नाम से राशि आहरित करना तथा एक व्यक्ति के नाम से 38 दिन का हवाला दिखाकर 19 हजार कुल राशि 87 हजार 12 अगस्त 2018 को आहरित कर लिया गया है। गंभीरता से यदि देखा जाए तो सचिव ने इन पाच मजदूरो के खाता नंबर का उल्लेख तक नही किया फिर क्या मजदूरो के खाते मे राशि गई या अन्य के खाते मे चली गई यह भी एक जांच का विषय बनता है।
फैक्ट फाइल-
इन श्रमिको के नाम पर किया गया भुगतान-
श्रमिक दिन दर कुल राशि
देवनाथ साहू ३८ ५०० १९,०००
शिवनाथ ३४ ५०० १७,०००
शिवला पनिका ३४ ५०० १७,०००
नाजकरन साहू ३४ ५०० १७,०००
रमेश पनिका ३४ ५०० १७,०००
कराई जाएगी जांच-
मामला संज्ञान मे आया है दोषियो के विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी।
संदीप डाबर
मुख्य कार्यपाल अधिकारी, जनपद पंचायत कुसमी