स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शिक्षक को नाबालिक छात्रा से हुआ प्यार, लेकर हुआ फरार

Om Prakash Pathak

Publish: Sep 14, 2019 12:22 PM | Updated: Sep 14, 2019 12:22 PM

Sidhi

शिक्षक को नाबालिक छात्रा से हुआ प्यार, लेकर हुआ फरार, पुलिस ने किया गिरफ्तार, छात्रा प्रेमी के साथ रहने की जिद पर अड़ी

सीधी। छात्रा को पढ़ाते-पढ़ाते शिक्षक एक दूसरे को दिल दे बैठे, और वे एक दूजे के होने के लिए घर से भाग गए। दोनो इंदौर मे रहकर पढ़ाई कर रहे थे, जहां से वापस आकर चुरहट मे किराए का कमरा लेकर रह रहे थे। पुलिस को पता चलने पर दोनो को चुरहट से पकड़कर कोतवाली लाया गया। प्रेमी के खिलाफ बालात्कार का मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। लड़की प्रेमी के साथ रहने की जिद पर अड़ी हुई है, वह अपने पिता के साथ घर जाने को तैयार नहीं हो रही है। जिस पर पुलिस के द्वारा उसे वन स्टाप सेंटर मे रखा गया है।
बताया गया कि शहर के बनिया कालोनी निवासी एक छात्रा निजी स्कूल मे अध्ययन कर रही थी, जहां शिक्षक रामधीश गुप्ता पिता मथुरा गुप्ता २५ वर्ष छात्रा से प्यार करने लगा। छात्रा ने बताया कि पिता की सहमति से वह अपने प्रेमी शिक्षक के साथ घर से गई थी। छात्रा के जाने के बाद पिता के द्वारा कोतवाली मे शिकायत की गई, जिस पर पुलिस के द्वारा गुमशुदगी का मामला पंजीवद्ध कर तलास शुरू की गई। उधर छात्रा प्रेमी के साथ इंदौर मे किराए का कमरा लेकर पढ़ाई कर रही थी। कुछ माह पूर्व वह चुरहट मे आकर किराए के कमरे मे रह रही थी। पुलिस को जानकारी होने पर दोनो को कोतवाली लाया गया। छात्रा नाबालिक होने के कारण पुलिस के द्वारा प्रेमी रामधीश के खिलाफ भादवि की धारा ३६३, ३६६, ३७६ पाक्सो एक्ट की धारा ३/४ के तहत मामला पंजीवद्ध कर प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया गया।
घर जाने को नहीं तैयार है छात्रा-
पुलिस गिरफ्त मे आने के बाद प्रेमिका अपने पिता के घर जाने को तैयार नहीं है, उसने कहा कि वह अपने पिता की सहमति से अपने प्रेमी के साथ गई थी, पिता के द्वारा धोखा देते हुए मामला पंजीवद्ध कराया गया है। मेरे प्रेमी के खिलाफ मामला पंजीवद्ध कराया गया तो मैं आत्महत्या कर लूंगी।
वन स्टाप सेंटर मे रखा गया प्रेमिका को-
पुलिस के द्वारा छात्रा को उसके पिता के घर जाने के लिए पर्याप्त प्रयास किया गया, किंतु प्रेमिका की जिद के आगे पुलिस को गुठने टेकने पड़े और मजबूरी मे उसे वन स्टाप सेंटर सखी मे रखा गया है। जहां से रीवा भेज दिया जाएगा।