स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मड़वास स्कूल के छात्रों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

Manoj Kumar Pandey

Publish: Dec 05, 2019 15:55 PM | Updated: Dec 05, 2019 15:55 PM

Sidhi

प्राचार्य की तानाशाही और विद्यालय की अव्यवस्थाओं से तंग छात्रों ने दी आंदोलन की चेतावनी, मामला उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मड़वास का

सीधी/पथरौला। मझौली जनपद अंतर्गत संचालित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मड़वास मे अध्ययन करने वाले छात्र-छात्राओं ने विद्यालय में पदस्थ प्रभारी प्राचार्य के तानाशाही रवैया सहित विद्यालय मे व्याप्त अव्यवस्थाओं से परेशान हो कर बुधवार को अनुविभागीय अधिकारी राजस्व मझौली के कार्यालय मे पहुंच कर अनुविभागीय अधिकारी एके सिंह को अपनी व्यथा सुनाते हुए जिला कलेक्टर के नाम लिखित शिकायती आवेदन भी प्रस्तुत किया गया है।
संस्था के छात्रों ने शिकायती आवेदन में उल्लेख किया है कि संस्था के प्रभारी प्राचार्य मनमोहन साकेत स्वयं कभी भी विद्यालय में समय से नहीं आते हैं, न ही पठन पाठन मे रुचि रखते हैं। यही वजह है कि विद्यालय मे पदस्थ शिक्षको सहित भृत्यों तक की मनमानी चरम पर है। भृत्यों के द्वारा कभी भी कमरे मे झाडू तक नहीं लगाई जाती है और सफ ाई के लिए कहने पर भृत्यों द्वारा हम लोगों से ही झाडू लगाने के लिए कहा जाता है। छात्रों ने बताया कि विद्यालय मे पदस्थ शिक्षक भी पठन-पाठन मे रुचि नहीं रखते हैं। किंतु प्राचार्य के द्वारा इस ओर कभी भी ध्यान नहीं दिया जाता है, जबकि अद्र्ध वार्षिक परीक्षा संचालित होने वाली हैं। लेकिन अभी तक आधा कोर्स की पढ़ाई भी नहीं हो पाई है। छात्रों ने बताया कि विद्यालय का भवन काफ ी जर्जर हो चुका है। जहां चारों तरफ दीवारों में दरारें पड़ी हैं। वहीं छत का मलवा सिर पर गिरता है तथा फर्स पूरी तरह से छतिग्रस्त हो चुका है, जिसके कारण बैठने मे परेशानी होती है। किंतु आज तक प्राचार्य द्वारा मरम्मत करवाने का प्रयास नहीं किया गया है। बताया कि विद्यालय मे बने सौंचालय मे प्राचार्य द्वारा ताला बंद करवा दिया गया है। जिससे छात्र-छात्राओं को सौंच आदि के लिए बाहर जाना पड़ता है। जबकि संस्था मे तकरीबन छ: सौ से ज्यादा छात्र दर्ज हैं। छात्रों ने बताया कि विद्यालय मे साफ -सफ ाई सहित पठन-पाठन के संबंध में यदि हम लोगों द्वारा प्राचार्य से शिकायत की जाती है तो उनके द्वारा एफआईआर दर्ज करवाने, हरिजन एक्ट लगवाने सहित कैरियर खराब करने जैसी धमकियां दी जाती हैं, जिसके कारण छात्र डरे सहमे रहते हैं। विद्यालय की शैक्षणिक व्यवस्था चौपट होती जा रही है। छात्रों ने अनुविभागीय अधिकारी मझौली को शिकायती आवेदन प्रस्तुत कर प्राचार्य द्वारा छात्रों के साथ किए जा रहे अमानवीय कृत्यों की बिंदुवार जांच कराए जाने सहित कार्रवाई की मांग की गई है। साथ ही जांच व कार्यवाही नहीं होने पर छात्रों द्वारा आंनदोलन की चेतावनी की भी दी गई है।

[MORE_ADVERTISE1]