स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

25 में से 12 वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित: नगर पालिका वार्र्डों का आरक्षण, चुनाव को लेकर गर्माई सियासत

Anil Singh Kushwaha

Publish: Sep 19, 2019 18:14 PM | Updated: Sep 19, 2019 18:14 PM

Sidhi

लॉटरी निकालकर चिह्नाकन किया, प्रशासनिक स्तर पर तैयारियां भी शुरू

सीधी. विधानसभा व लोकसभा चुनाव के बाद अब स्थानीय निकाय चुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हो गई है। इसकी प्रशासनिक स्तर पर तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। सीधी नगरपालिका चुनाव के लिए स्वायत्त शासन विभाग ने आरक्षित वार्डों की संख्या जारी कर दी है। यहां 25 में से 12 वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित होंगे। अनुसूचित जाति के लिए 2, अनुसूचित जनजाति के लिए दो, अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 6 वार्ड आरक्षित होंगे। शेष १४ वार्ड अनारक्षित वर्ग के लिए होंगे। कौन सा वार्ड किस वर्ग के लिए आरक्षित होगा, इसके लिए लॉटरी निकलाकर चिह्नांकन किया गया है।

ये वार्ड एससी-एसटी के लिए आरक्षित
नपा में पिछली बार भी दो वार्ड अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित थे, जिसमें एक महिला व एक पुरुष के लिए था। इस बार भी अनुसूचित जाति कोटे में दो वार्ड आए हैं। इसमें से वार्ड क्रमांक 8 पुरुष व वार्ड 21 महिला वर्ग के लिए आरक्षित है। इसी प्रकार अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए भी दो वार्ड आरक्षित किए गए हैं। इसमें से वार्ड क्रमांक 12 महिला व वार्ड क्रमांक 16 पुरुष वर्ग के लिए आरक्षित किया गया है।

6 वार्ड अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए
नगर पालिका का 25 में से 6 वार्ड अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित किया गया है। जिसमें से वार्ड क्रमांक एक महिला, 3 महिला, 6 पुरुष, 17 महिला, 19 पुरुष एवं वार्ड क्रमांक 20 पिछड़ा पुरुष वर्ग के लिए आरक्षित किया गया है।

अनारक्षित की श्रेणी में 14 वार्ड
आरक्षण रोस्टर के आधार पर नगर पालिका का १४ वार्ड अनारक्षित की श्रेणी में रखा गया है। जिसमें वार्ड क्रमांक २ पुरुष, 4 महिला, पांच पुरुष, सात पुरुष, 9 पुरुष, 10 पुरुष, 11 महिला, 13 महिला, 14 पुरुष, 15 महिला, 18हिला, 22ुरुष एवं २३ व २४ महिला वर्ग के लिए आरक्षित है।

अध्यक्ष पद पिछड़ा महिला के लिए आरक्षित
नपा अध्यक्ष पद अन्य पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित है। जिसके कारण भाजपा व कांग्रेस से अध्यक्ष पद का टिकट पाने के लिए महिला दावेदार सक्रिय हो चुकी हैं। वार्डों का आरक्षण जारी होने के बाद अब दावेदारो की सक्रियता और भी बढ़ चुकी है।

नए मतदाताओं से बदल सकते हैं समीकरण
नगर पालिका चुनाव लडऩे के इच्छुक अभी पुराने वार्ड की स्थिति व मतदाताओं से संपर्क कर अपनी राजनीतिक जमीन तैयार करने में जुटे थे, लेकिन वार्डों को परिसीमन होने से उन्हें नए सिरे से चुनावी तैयारी में जुटना होगा। परिसीमन से नए जुडऩे वाले मतदाताओं तक पहुंच बनानी होगी और नए मतदाताओं के जुड़ाव से इस बार राजनीतिक समीकरण भी बदल सकते हैं।

वार्ड की तलाश में जुटे पार्षद
नगर पालिका की राजनीति करने वाले पार्षद आरक्षण रोस्टर जारी होने के बाद उनका वार्ड अन्य वर्ग के लिए आरक्षण की श्रेणी में आ जाने से अब वे नवीन वार्ड की तलाश में जुट गए हैं, जहां से वे टिकट हथियाकर फिर से पार्षद निर्वाचित हो सकें, किंतु यह राह इतनी आसान नहीं होगी, क्योंकि उस वार्ड के खुद दावेदार पूर्व से आरक्षण रोस्टर पर नजर गढ़ाए बैठे थे।