स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शाम होते ही चौराहे से गायब हो जाती है पुलिस

Om Prakash Pathak

Publish: Nov 13, 2019 13:00 PM | Updated: Nov 13, 2019 13:00 PM

Sidhi

शाम होते ही चौराहे से गायब हो जाती है पुलिस, धारा १४४ लागू होने के बाद भी चौराहों पर नहीं नजर आ रही पुलिस, रात्रि कालीन गश्त मे पुलिस बरत रही लापरवाही

सीधी। शाम ढलते ही शहर के चौक-चौराहों से पुलिस नदारत हो जाती है। चौराहों की सुरक्षा भगवान भरोसे होती है। इस दौरान बदमाश वारदात को अंजाम देने के बाद आसानी से फरार हो सकते हैं। पुलिस रातभर गश्त का दावा करती है। कभी नाइट डोमिनेशन तो नाकाबंदी के फोटो खिंचवाकर वाहवाही लेने वाली सीधी पुलिस की नाइट गश्त की पत्रिका की तरफ से सोमवार रात को लाइव रिपोर्ट की गई, जिसमें पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था की असलियत सामने आई।
रात 9 बजे शहर के प्रमुख चौराहों का जायजा लिया गया, एक भी चौराहे पर पुलिस नजर नहीं आई।
उल्लेखनीय है कि वर्तमान मे अयोध्या राम मंदिर निर्माण के न्यायालय से फैसला आने पर जिले मे धारा १४४ लागू की गई है, वहीं पुलिस को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं। किसी भी वारदात का खतरा रात मे ही ज्यादा होता है किंतु सीधी शहर मे चौराहों पर दिन मे तो पुलिस तैनात दिखती है किंतु शाम होते ही चौराहों से पुलिस गायब हो जाती है, ऐसी स्थिति मे प्रशासन के दावे हवा-हवाई सावित हो रहे हैं।
.........
सम्राट चौक-
समय- रात्रि ८.३५ बजे
शहर का सम्राट चौक प्रमुख चौराहा व विवादित स्थल माना जाता है क्योंकि यहां शराब की दुकान संचालित है, इस चौराहें पर विगत दिवस पुलिस को भी पिटना पड़ा था, इसी चौराहे से कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक बंगला जाने का रास्ता है किंतु सोमवार की रात्रि ८.३५ बजे की इस चौराहे से पुलिस नदारत दिखी।
.........
अंबेडकर चौक-
समय- रात्रि ८.४२
अंबेडकर चौक के पास कलेक्ट्रेट व न्यायालय संचालित है। वहीं सूने वीथिका भवन शराबियों के लिए शराब पीने का सुरक्षित अड्डा है, विगत माह इस चौराहे पर अंबेडकर प्रतिमा को खंडित कर दिया गया था, तो एक दिन अंबेडकर प्रतिमा के सिर को पकड़े से ढक दिया गया था, जो सामाजिक विघटन व विवाद का कारण बन सकता है, इसके बाद भी इस चौराहे मे रात्रि को पुलिस नदारत रहती है।
........
लालता चौक-
समय- रात्रि ९.०८ बजे
लालता चौक के नजदीक सोनांचल बस स्टैंड है, बस स्टैंड जैसी सामूहिक जगह पर विदेशी शराब की दुकान संचालित हैं, जहां देर रात्रि तक शराबियों के द्वारा उत्पात मचाया जाता है, जिससे बस का इंतजार करने वाले यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ती है, इसके बाद भी सोनांचल बस स्टैंड व लालता चौक मे भी पुलिस के दर्शन नहीं होते।

[MORE_ADVERTISE1]