स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

संसाधनों की कमी से अवैध खनन रोकने में नाकाम महकमा, कारोबारी बेलगाम, प्रशासन नहीं कर पा रहा कार्रवाई, जानें क्या है वजह

Anil Singh Kushwaha

Publish: Sep 22, 2019 18:55 PM | Updated: Sep 22, 2019 18:55 PM

Sidhi

रेत, मुरम से लेकर पत्थरों का खुलेआम अवैध उत्खनन

सीधी. खनिज विभाग अवैध परिवहन को लेकर कितनी भी कार्रवाई करने के दावे करे, किंतु हकीकत यह है कि बिना किसी कारगर योजना व सतत नियंत्रण के जिले का अवैध खनन कारोबारी बेलगाम होते जा रहे हैं। विभाग के पास न तो पर्याप्त अमला है और न ही वाहन है। ऐसे में अवैध खनन पर लगाम लगाना चुनौती से कम नहीं है। उल्लेखनीय है कि जिला मुख्यालय से लगे क्षेत्रों में कुछ समय रोक के बाद फिर से खुलेआम रेत, मुरम एवं पत्थरों का अवैध उत्खनन प्रारंभ हो गया है।

कार्रवाई की दरकार
सिहावल, रामपुर नैकिन विकासखंड मुख्यालय से लगे कई स्थानों से मुरम व अवैध पत्थर का उत्खनन जोरों से चल रहा है। किंतु विभाग के पास संसाधन न होने के कारण निरीक्षण व कार्रवाई नहीं कर पा रहा है। खनिज विभाग सिर्फ उन्हीं मामलों में कार्रवाई कर रहा है जो अवैध उत्खनन व परिवहन पुलिसकर्मियों या अन्य अधिकारियों के द्वारा पकड़ा जाता है।

एक निरीक्षक के भरोसे 5 विकासखंड
खनिज विभाग मे अवैध खनन पर नजर रखने के लिए मात्र एक खनिज निरीक्षक पदस्थ हैं। अब एक निरीक्षक पांच विकासखंडों में अवैध उत्खनन पर कैसे नजर रख सकता है इसका अंदाजा लगाया जा सकता है।

कंडम वाहन के भरोसे अमला
खनिज विभाग के पास एक भी वाहन सही स्थिति में नहीं है। पूर्व मे एक जीप शासन स्तर से खनिज विभाग को उपलब्ध कराई गई थी। किंतु विगत चार वर्ष पूर्व ही वह कंडम घोषित हो चुकी है।

बड़े पैमाने पर हो रहा अवैध उत्खनन
जिले में कई स्थानों पर अवैध उत्खनन का कारोबार जोरों से चल रहा है। चुरहट, सिहावल, रामपुर नैकिन, मझौली अंचल मेे खुलेआम अवैध उत्खनन का करोबार चल रहा है। कई स्थानों पर अवैध मूरम की निकासी के कारण गहरे गड्ढे बन गए हैं। जिससे बारिस के मौसम मे हादसों की भी आशंका बनी हुई है। इधर, खनिज अधिकारीक्यू रहमान ने कहा कियह बात सही है कि विभाग के पास वाहन सहित अमले का पर्याप्त अभाव है, इसके बाद भी अपने स्तर से भरसक अवैध उत्खनन व परिवहन के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।