स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जमोड़ी गोली कांड: कैसे हुई वारदात, पहेली नहीं सुलझा पा रही पुलिस

Manoj Kumar Pandey

Publish: Jul 20, 2019 21:40 PM | Updated: Jul 20, 2019 21:40 PM

Sidhi

युवक को लगी गोली, अबूझ पहेली बनी घटना, पुलिस घटना को लेकर सशंकित, सामने आती जा रही नई-नई कहानियां, घायल का साथी बना रहा अलग-अलग कहानी

सीधी। जमोड़ी थाना अंतर्गत जमोड़ी सेंगरान निवासी रोहित सिंह पिता ललन सिंह सेंगर 20 वर्ष गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल को उपचार के लिए जिला अस्पताल लाया गया, जहां हालत गंभीर होने पर रीवा के लिए रेफर कर दिया गया है। इधर युवक को गोली कैसे लगी, कहां लगी इस बात का खुलाशा अभी फिलहाल नहीं हो पाया है, पुलिस जांच में घटना की अलग-अलग कहानियां सामने आ रही है, इसलिए पुलिस भी किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है। युवक को गोली लगने की घटना शनिवार की सुबह करीब 9.30 बजे की बताई जा रही है।
पुलिस सूत्रों के अनुसार घायल युवक के साथी सुधांशु सिंह उर्फ कुन्ने निवासी जमोड़ी ने जो कहानी बयां कि उसके अनुसार सुधांशु अपने साथी रोहित सिंह सेंगर के साथ अपने घर जमोड़ी सेंगरान से बाजार जाने के लिए निकले थे, और जैसे ही जमोड़ी थाने से कुछ ही दूरी पर अजय ट्रेडर्स के पास मुख्य मार्ग में पहुंचे कि उसी समय तोरण द्वारा की तरफ से एक काले रंग की बिना नंबर की बुलट मोटर सायकल में दो अज्ञात लड़के आए और बुलट मे पीछे बैठा लड़का कट्टे से मेरे रोहित सिंह को जान से मारने की नियत से फायर कर दिया, जिससे गोली रोहित के बाएं कंधे में लगी, जिससे वह खून से लथपथ होकर गिर गया, गोली मारने वाले लड़के बुलट से चुरहट की तरफ भाग गए। इसके बाद हल्ला गुहार करने पर स्थानीय व परिवार के लोग एकत्रित हो गए और घायल को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद युवक की हालत गंभीर होने पर चिकित्सकों द्वारा रीवा के लिए रेफर कर दिया गया। घटना की शिकायत घायल युवक के नाना शमशेर सिंह सेंगर पिता सत्यबहादुर सिंह सेंगर 52 वर्ष द्वारा जमोड़ी थाने में किए जाने पर पुलिस द्वारा अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध भादवि की धारा ३०७, ३४ के तहत मामला पंजीबद्ध कर विवेचना शुरू कर दी गई है।
पुलिस जांच में अपुष्ट मिली घटना-
घायल युवक के नाना द्वारा पुलिस शिकायत में घटना की जो कहानी बताई गई है, उसके अनुसार जब जमोड़ी पुलिस ने जांच शुरू करते हुए घटना स्थल पर जाकर विवेचना शुरू की तो घटना स्थल पर न तो कहीं खून के धब्बे मिले और न ही स्थानीय किसी ने यहां गोली चलने की पुष्टि की, जिससे पुलिस को यह कहानी सशंकित कर रही है।
पहले ईलाज के लिए इधर उधरे भटके-
पुुलिस सूत्रों के अनुसार गोली चलने की घटना के बाद घायल युवक को उसका साथी जिला अस्पताल नहीं ले जाना चाहता था, पहले तो वह शहर के कुछ मेडिकल स्टोर में मे उपचार कराना चाहा, जब वहां बात नहीं बनी तो घायल को लेकर शहर के निजी अस्पतालों में ले गए, लेकिन गोली लगने के कारण निजी अस्पतालों में भी उसका उपचार करने से मना कर दिया गया, तब अंतिम में घायल को जिला अस्पताल ले जाया गया।
घायल का बयान लेने रीवा पहुंची जमोड़ी पुलिस-
घायल के परिजनों व साथी द्वारा घटना के संबंध में बताई गई कहानी सशंकित करने वाली होने के कारण जमोड़ी पुलिस घटना की सत्यता तक पहुंचने के लिए काफी मशक्कत कर रही है, जमोड़ी पुलिस को लगता है कि घायल ही घटना की असली कहानी बयां कर सकता है, इसलिए जमोड़ी पुलिस की एक टीम को रीवा घायल का बयान लेने के लिए भेजा गया है, अब देखना होगा कि घायल की तरफ से घटना को लेकर क्या बयान सामने आता है।
साथी को पुलिस ने लिया हिरासत में-
गोली लगने से घायल रोहित सिंह के साथी सुधांशु सिंह द्वारा घटना के संबंध में बताई गई कहानी सशंकित करने वाली होने के कारण जमोड़ी पुलिस द्वारा सुधांशु को हिरासत में लेकर पूंछतांछ की जा रही है। सूत्रों की बात माने तो वह अब अलग-अलग कहानी बयां कर रहा है, लेकिन अभी भी उसके द्वारा सत्य घटना नहीं बताई जा रही है।
चल रही है जांच-
गोलीकांड की जो कहानी घायल के परिजनों द्वारा बताई गई है उसके आधार पर प्रथम दृष्टया अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना शुरू कर दी गई है। लेकिन उक्त कहानी सशंकित करने वाली लग रही है, इसलिए मामले की जांच बारीकी से की जा रही है, सत्य घटना क्या है अभी कहा नहीं जा सकता।
राजेश पांडेय, थाना प्रभारी जमोड़ी
शीघ्र होगा घटना का खुलाशा-
गोलीकांड में प्रथम दृष्ट्या अलग-अलग कहानी सामने आ रही है, मामले की बारीकी से जांच की जा रही है, शीघ्र ही सत्य घटना का खुलाशा कर लिया जाएगा।
आरएस बेलवंशी, पुलिस अधीक्षक सीधी