स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खबर का असर: ग्रामीणों से भयभीत शिक्षक का स्कूल छोडऩे के बाद हुआ तबादला

Manoj Kumar Pandey

Publish: Sep 05, 2019 15:19 PM | Updated: Sep 05, 2019 15:19 PM

Sidhi

नियम विरूद्ध तरीके से अतिथि शिक्षक भर्ती का बनाया जा रहा था दबाव, अवैध नियुक्ति न करने पर दी जा रही थी हांथ पांव तोडऩे की धमकी

सीधी/पथरौला। आदिवासी जनपद पंचायत कुसमी अंतर्गत संकुल कंेद्र पोंड़ी बस्तुआ के पूर्व माध्यमिक शाला नवानगर के एक शिक्षक ने अतिथि शिक्षकों की नियम विरुद्ध तरीके से नियुक्ति नहीं करने पर ग्रामीणों द्वारा दी गई धमकी के बाद स्कूल जाना ही बंद कर दिया था। उक्त शिक्षक का कहना था की नौकरी छोड़ दूंगा लेकिन उस गांव की स्कूल मे पढ़ाने नहीं जांऊंगा। इस मामले को पत्रिका द्वारा खबर प्रकाशित कर जिम्मेदारों का ध्यान आकृष्ट कराया गया था, जिसे संज्ञान मे लेते हुए उक्त शिक्षक का तबादला अन्य स्कूल के लिए कर दिया गया है।
बता दें कि पूर्व माध्यमिक शाला नवानगर मे पदस्थ शिक्षक मकबूल खान के ऊपर ग्रामीणों द्वारा शासन निर्धारित नियम के विरुद्ध अतिथि शिक्षकों के भर्ती का दबाव बनाया जा रहा था। ऐसा नहीं करनें पर शिक्षक को हाथ पांव तोडऩे की धमकियां दी जा रही थी। और ग्रामीणों की धमकी से डरकर उच्चाधिकारियों को सूचित करते हुए शिक्षक मकबूल खान ने स्कूल जाना बंद कर दिया था। शिक्षक का कहना था कि ग्रामीणों द्वारा जिस तरह की धमकियां दी जा रही हैं उससे मंै अपने आपको काफी असुरक्षित महसूस करता हूं। लिहाजा मै नौकरी छोड़ दूंगा किंतु उस गांव की स्कूल मे नहीं जाऊंगा। जिसे संज्ञान मे लेते हुए पत्रिका द्वारा 4 अगस्त के अंक मे नौकरी छोड़ दूंगा, लेकिन उस गांव की स्कूल में नहीं जाऊंगा नामक शीर्षक को प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया गया था। जिसे संज्ञान में लेते हुए विभाग द्वारा उक्त शिक्षक का तबादला मझौली जनपद के प्राथमिक शाला लेंडुआ मे कर दिया गया है। और शिक्षक ने विगत 29 अगस्त को प्राथमिक शाला लेंडुआ मे ज्वाइन कर लिया है।